Domain Name क्या है और Domain Name क्यों जरुरी हैं

क्या आपको पता है Domain Name किसे कहा जाता है। अगर आपको नहीं पता की आखिर Domain Name किसे कहते है। और डोमेन नाम क्यों जरुरी है। अगर आप एक Student है या आपके पास कोई Blog या Website है तो इस नाम को तो जरूर सुने होंगे। क्यों हम जो भी Website को Create करते है

तो इसमें Domain Name की जरुरत जरूर पड़ती है। क्योकि बिना Domain नाम से किसी भी Website या Blog को क्रिएट नहीं कर सकते है। आज के इस Topic में हम इसी के बारे में जानगे की आखिर बिना डोमेन नाम हम अपने Website को क्यों नहीं Create कर सकते है।

 

Domain Name क्या है

तो जब ब्लॉगर पर अपनी Website बनाने के बारे में सोचते हैं तो सबसे पहली चीज आती है Domain . अब बहुत सारे लोगों को नहीं पता है कि Domain Name क्या है (What is Domain Name Hindi). तो वही हम जानने वाले हैं कि आखिर क्या है

Domain  आज हम जाने वाले हैं. Domain Name के बारे में तो आपके बहुत काम आएगा. तो Domain Name आपकी Website का नाम होता है जैसे अभी मेरी Website का नाम है Mytechinfo.in

तो ये जो नाम है इसे हम Web Address कहते हैं और यही इस Website का Domain Name है. लेकिन कहानी यहां पर खत्म नहीं होती है. Domain Name के बारे में भी बहुत सारी जानकारी आपको जाननी जरूरी है तो जिस System से आपके Domain Name को ऑपरेट किया जाता है या चलाया जाता है

उसे Domain Name System कहते हैं. इसे शॉर्ट में DNS भी कहते हैं. यहीं आपके Domain से रिलेटेड सारी जानकारी स्टोर रहती है उसका ip Address या उससे रिलेटेड और भी जानकारी

do

Domain Name क्यों जरुरी है

जानकारी तो बहुत सारे लोग ये भी जानना चाहेंगे कि क्या Domain Name क्यों जरूरी होता है और क्या इसके बिना भी किसी Website पर या Web Page पर पहुंचा जा सकता है.

आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि शुरुआती दौर में Web Address न होकर यानी www में Domain न होकर ip Address हुआ करते थे ip Address का अर्थ है इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस. अब किसी भी Website या किसी भी Web Page जो भी चीजें इंटरनेट से जुड़ी होगी,

आपका कंप्यूटर हो चाहे आपकी वेबसाइटों हर चीज के लिए एक ip Address होता है. ip Address बिल्कुल उसी तरह से होता है जैसे आपके शहर में आपका पिनकोड नंबर होता है. अब आपकी जो डाक सेवा है वो आपके पिनकोड नंबर के आधार पर काम करती है.

Ip Address उदाहरण के लिए आपके शहर के पिनकोड नंबर जैसा होता है. अब आप खुद ही सोच लीजिए आप 20-25 शहरों के नाम ज्यादा अच्छे से याद रख पाएंगे या उन शहरों के पिनकोड नंबर्स को उन शहरों के नामों से ज्यादा याद कर पाएंगे. जी हां आप उनके नाम ज्यादा आसानी से याद कर पाएंगे.

अगर मैं कहूं कि मैं 541437 Pincode में रहता हूं तो आपको ज्यादा सोचने में अच्छा लगेगा या अगर मैं कहूं कि मैं Gorakhpur में रहता हूं. तो ज्यादा अच्छा लगेगा जी हाँ आपको शहर का नाम ज्यादा अच्छे से याद होगा और यही समस्या थी ip Address को याद रखने में.

इसलिए Domain Name इजाद किया गया, Domain Name से आप सीधे सीधे किसी Website का नाम बहुत अच्छे से याद रख सकते थे लेकिन ip Address खत्म नहीं हुआ

 

DNS (Domain Name System)  क्या है

अभी भी हर Website का हर उस डिवाइस  जो इंटरनेट नेटवर्किग से कनेक्टेड है उसका एक ip Address होता है और ip Address इसलिए होता है क्योंकि आपका जो कंप्यूटर है आपका जो System है वो किसी नाम को नहीं पढ़ पाता है वो सिर्फ ip Addressको पढ़ पाता है और इस काम में उसकी सहायता करता है Domain Name सर्वर्स यानी DNS का यही काम होता है.

जब आप किसी Website का नाम अपने Web Browser में टाइप करते हैं तो वो उसको ip Address में कन्वर्ट कर देता है है और आपके Domain Name के Name Server के पास तक पहुंचता है.

Name Server क्या होता है

Name Server वही होते हैं जिस कंपनी से आप Domain खरीदते हैं आपके Domain की सारी इन्फर्मेशन इन सर्वर्स के पास होती है तो जब कोई भी यूजर Web Browser में किसी साइट का नाम टाइप करता है तो DNS उसको ip Address में कन्वर्ट कर देता है और Name Server के पास इन्फर्मेशन भेजता है Name Server को ये निर्देश देता है कि वो Website से जुड़ी सारी जानकारी Web Page आपके पास तक पहुंचा दे.

 

Http और Https क्या है

अब Domain Name के कुछ हिस्से भी होते हैं. उदाहरण के लिए हम यहां पर ले लेते हैं https://www.mytechinfo.in आप देखेंगे कि सबसे आगे यहां पर https लगा हुआ है. अब ये https क्या होता है. मैं आपको बता दूं कि इंटरनेट में हर Web Page के लिए एक प्रोटोकॉल होता है. प्रोटोकॉल एक रूल का एक बंडल होता है नियमों का एक बंडल होता है

जिसको हर Web Address को फॉलो करना होता है. अब ये जो प्रोटोकॉल हैं ये दो तरह के होते हैं पहला http यानी हाइपर टेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल और अब नई Website.

आपने देखा होगा कि https लिखा रहता है तो उसका मतलब होता है Hyper Text Transfer Protocol Secure. अब नए ज़माने में एक हैकर भी ज्यादा बढ़ गया आपकी इन्फर्मेशन को चुरा लेते हैं तो यहां पर ये जो प्रोटोकॉल है

जो https प्रोटोकॉल है वो यूजर्स को सिक्योर रखता यूजर की इन्फर्मेशन को सिक्योर रखने में सहायता करता है. तो अगर आपको किसी Website पर Https लिखा दिखाई दे तो यानी वो Website सिक्योर है. अब आने वाले समय में सभी Website को https लेना जरूरी है

 

Root Domain क्या है

इसके बाद आपको दिखाई देगा www तो www का अर्थ होता है World wide Web यूआरएल का Sub Domain. इसके बाद आपको यहां पर दिखाई देगा Mytechinfo.in ये आपका Domain Name और ये भी दो हिस्सों में बंटा रहता है. पहला Mytechinfo site नाम है और दूसरा .com जो उसका एक्सटेंशन है.

अब ये दोनों मिल के एक यूनीक नाम बनाते हैं इन्ही दोनों को मिलकर Root Domain बनता है अगर आपने एक नाम से कोई Domain रजिस्टर करा लिया जैसे Mytechinfo मैंने यहां पर रजिस्टर करा लिया तो कोई भी व्यक्ति पूरी दुनिया में उस नाम से दूसरे Domain रजिस्टर नहीं करा सकता.

लेकिन यहां पर आप एक्सटेंशन बदलकर नाम रजिस्टर करा सकते हैं. अब इन एक्सटेंशन के भी अपने अपने अलग अलग प्रकार होते हैं.

 

Domain Extension किसे कहते है

लेकिन यहां पर आप एक्सटेंशन बदलकर नाम रजिस्टर करा सकते हैं.हम कई बार किसी भी Domain के Name के पीछे .com .in .edu .gov लगे देखते है। इसी को हम Domain Extension कहते है। अब इन एक्सटेंशन के भी अपने अपने अलग अलग प्रकार होते हैं.

अब ये एक्सटेंशन दो प्रकार के होते हैं. पहला Top Leval Domain टॉप लेवल Domain में .com .org .in .gov आते हैं. अगर किसी को कमर्शियल Website बनानी है तो वो .com को सेलेक्ट करेगा.

अगर किसी को एजुकेशनल Website बनानी है तो .edu को Select करेगा अगर गवर्मेंट की Website है तो वहां पर .Gov एक्सटेंशन होगा.

अब इसके अलावा कंट्री को टॉप लेवल Domain भी होते हैं जिससे आपको देखते ही पता चल जाता है कि Website किस देश की आपने देखा होगा कि जब आप Google.com को इंडिया में खोलते हैं

तो वहां पर Google.in लिखा हुआ था लेकिन अगर वही Website अमेरिका में खोली जाती है तो वहां पर google.com लिखा हुआ आता है यही फर्क है.

 

Conclusion

तो आशा है आप Domain Name के बारे में समझ गए होंगे. Domain Name क्या होता है और ये आपकी Website के लिए क्यों जरूरी होता है. Domain Name खरीदने से पहले आपको दो तीन बातों के बारे में ध्यान देना चाहिए कि वो Domain Name ऐसा हो कि याद करने में आसानी Domain Name बनाया ही इसलिए है कि लोग उसे आसानी से याद रख सकें और दूसरा वो छोटा हो.

 

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      MYTECHINFO
      Logo