SMPS Kya Hai? कैसे काम करता है हिंदी में

क्या आप कंप्यूटर का इस्तेमाल करते है यदि करते है बहुत ही ज्यादा जरुरी है की हमें कंप्यूटर के बारे में ज्यादा जानकारी होना बहुत ही जरुरी है वैसे तो मैंने इस ब्लॉग पर कंप्यूटर के बारे में कई सारे आर्टिकल को पब्लिश चूका हूँ।

परन्तु आज हम कंप्यूटर के सबसे महत्वपूर्ण Parts यानि कंप्यूटर के अंग SMPS Kya Hai इसके बारे में जानने वाले है। जो भी व्यक्ति कंप्यूटर का इस्तेमाल करना है उसे कंप्यूटर के सभी पार्ट्स के जानकारी रखना जरुरी होता है क्योकि कंप्यूटर के सभी पार्ट्स के बारे में अच्छे से जानकारी है

तो मानलीजिए कभी भी कंप्यूटर सिस्टम के अंदर कुछ प्रॉब्लम होता है तो उसे हम आसानी से Identify कर सकते है और बिना कंप्यूटर स्टोर गए पार्ट्स को Replace कर सकते है। इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम कंप्यूटर के सबसे मत्वपूर्ण पार्ट्स एसएमपीएस के बारे में जानेंगे।

वैसे कंप्यूटर में अचानक कोई प्रॉब्लम होता है तो सबसे पहले हम कंप्यूटर में लगे SMPS को ही चेक करते है ऐसा इसलिए किया जाता है क्योकि SMPS के माध्यम से ही सिस्टम लगे सभी पार्ट्स को पावर सप्लाई मिलता है इसलिए जब भी कंप्यूटर में कुछ होता है ऑपरेटर कंप्यूटर में लगे एसएमपीएस का निरक्षण करता है जिससे ये बहुत ही आसानी से पता लगया जा सकता है।

 

SMPS Kya Hai in Hindi

तो हम सबसे पहले SMPS के बारे में जानते है जिसका फुल फॉर्म होता है Switch Mode Power Supply और इसको PSU (Power Supply Unit) के नाम से भी जाना जाता है

PSU का काम होता है कंप्यूटर लगे सभी डिवाइस जैसे मदर बोर्ड, कूलिंग फैन, रैम, हार्ड डिस्क, प्रोसेसर, इत्यादि को पावर सप्लाई करना, हमारे कंप्यूटर सिस्टम चाहे वो लैपटॉप हो या डेस्कटॉप के अंदर जितने भी हार्डवेयर कॉम्पोनेन्ट लगे होते है उनको Direct Current (DC) प्रोवाइड करता है।

एक एसएमपीएस का जो मुख्य काम होता है AC (alternating cSMPS Kya Hai Jankari Hindiurrent) को इनपुट की तरह लेना और उसको DC यानि डायरेक्ट करंट में कन्वर्ट कर कंप्यूटर के अलग-अलग हिस्सों में सप्लाई कर देना, और इसका मुख्य कारण कंप्यूटर में जितने भी इंटरनल हार्डवेयर वो कभी भी AC बिधुत धरा पर वर्क नहीं करते है

यदि उनको हमारे घरों में आने वाले सामान्य बिधुत को डायरेक्ट सिस्टम में दिया जाये तो पार्ट्स जल जायेंगे।

इसलिए SMPS का इस्तेमाल कंप्यूटर सिस्टम में किया जाता है जिससे कंप्यूटर के जिस पार्ट को जीतनी पावर की आवश्यकता होगी। उतनी ही पावर को एसएमपीएस पार्ट्स को प्रोवाइड करता है।

मानलीजिए कंप्यूटर में प्रोसेसर को अपने कार्य करने के लिए +5V वाल्ट की आवश्यकता है तो एसएमपीएस उतना ही पावर सप्लाई को भेजेगा जीतनी उसको आवश्यकता होगी।

एक SMPS में अलग अलग पार्ट्स को पावर सप्लाई करने के लिए अलग-अलग केबल होती है जिसके बारे में आगे पुरे विस्तार से जानने वाले है SMPS जिसको PSU के नाम से जाना जाता है उसे एसएमपीएस इसलिए कहा जाता है क्योंकि ये अपने पावर को Switch करता रहता है।

इसके साथ ही SMPS Power को इनपुट लेने के बाद उसको फ़िल्टर करता है उसके बाद ही पावर को आगे सप्लाई करता है। वैसे एसएमपीएस कंप्यूटर के आलवा भी बहुत सारे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में पाया जाता है, परन्तु सभी के सभी डिवाइस में एक सामान काम करता है पावर को स्विच करना।

Computer के सभी हार्डवेयर बारे में
कंप्यूटर के विभिन्न उपकरणों हिंदी में
कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है हिंदी में

SMPS कैसे वर्क करता है

अभी तक हमने SMPS Kya Hai और इसका काम क्या होता है जिसमे हमने ये समझा। एसएमपीएस का काम होता है High Voltage यानि AC को Low Voltage DC में कन्वर्ट करता है परन्तु सिर्फ DC में ही नहीं बल्कि Multiple DC में कन्वर्ट करता है Multiple DC Volt का मतलब होता है यदि कंप्यूटर में लगे किसी भी पार्ट्स को 2 Volt की आवश्यकता है तो उसे 2 वोल्ट प्रोवाइड करेगा, किसी को 5 Volt की आवश्यकता है तो उसे 5 Volt प्रोवाइड करेगा।

ऐसा इसलिए होता है क्योकि कंप्यूटर में जितने भी अलग-अलग पार्ट्स है सभी को एक सामान Volt की आवश्यकता नहीं होती है। अब अगर इसकी Architecture की बात करें तो सबसे पहले एसएमपीएस में एक Input डिवाइस लगा होता है जिसमे हम इनपुट प्रोवाइड करते है और 220 वोल्ट से 240 वोल्ट तक के होता है।

इसके बाद ट्रांसफार्मर लगे होते है इसको हम Step Down ट्रांसफर्मर भी बोल सकते है और इसका काम होता है High Voltage को Low Voltage में कन्वर्ट करना यानि AC को DC में कन्वर्ट करता है और फ़िल्टर करना,

परन्तु जब ये AC से DC में कन्वर्ट कर Filter करके आगे भेजता है फिर भी ये पूरी तरह से फ़िल्टर नहीं पाते है और इसमें अभी भी Fluctuation रहता है यानि सुद्ध DC वोल्टेज नहीं होते है परन्तु जब ये आगे Reptifire के पास पहुँचता है जिसमे बहुत ही छोटे छोटे Trasngister, Capacitor और भी Component लगे होते है

जो इस DC वोल्टेज को अच्छे से फ़िल्टर करते है और फिर इसके बाद यहाँ सुद्ध DC में फ़िल्टर करने के बाद ही आगे भेजते है तो Ractifire और Filter का काम होता है विधुत में Fluctuation को पूरी तरह से ख़तम करना।

 

SMPS Output Voltage

यदि आप कंप्यूटर के एसएमपीएस को देखते है इसमें आपको 4 कनेक्ट होते है और इन चारों कनेक्टर में बहुत सारे अलग-अलग प्रकार के केबल जुड़े हुए होते है परन्तु इन कनेक्टर में जितने भी केबल लगे होते है उन सभी अलग अलग DC वोल्टेज होते है तो चलिए अब हम ये समझते है कौन से केबल यानि तार में कितने वोल्टेज होता है।

आप निचे दिए गए डायग्राम में देख सकते है कौन से वायर कितना DC वोल्टेज प्रदान करता है जैसे

 

ATX Connector in Hindi

तो हम लोग सबसे पहले हम एसएमपीएस में जितने भी Power Connectors होते है जो कंप्यूटर के अलग अलग पार्ट्स को पावर सप्लाई करते है उन्हें हम एक-एक करके जानेंगे। ATX 24+4 पिन ये मदर बोर्ड का सबसे मुख्य पावर कनेक्टर होता है जो हमारे पुरे मोठेर्बोर्ड को पावर सप्लाई देता है इस कनेक्टर को AT और ATX कनेक्टर भी बोलते है। इस कनेक्टर से ही हमारे सिस्टम मदर बोर्ड को पावर मिलती है

 

PCI Connector in Hindi

इस कनेक्टर का इस्तेमाल कंप्यूटर में PCI Express expansion cards को पावर सप्लाई करता है और ये टोटल 12 Volt प्रोवाइड करता है ये 6 पिन और 6 पिन में आता है चुकी कंप्यूटर में लगे ग्राफ़िक दूसरे कंपोनेंट्स के अपेक्षा ज्यादा पावर की खपत करते है

 

SATA Connector in Hindi

इस कनेक्टर का इसमें कंप्यूटर में लगे हार्ड डिस्क को पॉवर सप्लाई के लिए होता है SATA का फुल फॉर्म (Serial Advanced Technology Attachment) होता है सबसे पहले SATA Connector की जगह पर ATA कनेक्टर का इस्तेमाल होता था। प

रन्तु अब इसको Upgrade कर SATA कनेक्टर का इस्तेमाल किया जाता है SATA कनेक्टर में टोटल 15 Pin होते है। आज कल के मदर बोर्ड में सिर्फ SATA Connector का ही इस्तेमाल हो रहा है क्योकि ये ATA कनेक्टर के अपेक्षा बहुत ही फ़ास्ट डाटा को ट्रांसफर कर सकता है। इस कनेक्टर को मदर बोर्ड से सीधे हार्ड ड्राइव में कनेक्ट किया जाता है।

 

Aux Power Connector in Hindi

auxiliary Power connector 6 Pin का होता है जो कंप्यूटर में लगे मदर बोर्ड को एक्स्ट्रा पावर प्रोवाइड करता है। आज कल इस कनेक्टर का इस्तेमाल सायद ही होता है इस कनेक्टर का इस्तेमाल पहले Dual CPU AMD मदर बोर्ड में होता था परन्तु आज इस्तेमाल इसलिए नहीं होता क्योकि आज मार्केट में हाई पावर सीपीयू मौजूद है।

 

CPU Power Connector in Hindi

इन सभी के अलावा एक सीपीयू पावर कनेक्टर आता है जो हमारे कंप्यूटर के मदर बोर्ड पर लगे CPU को पावर सप्लाई देने का कार्य करता है और 4 और 4 पिन का होता है

SMPS में और भी बहुत सारे कनेक्टर आते है जिसका इस्तेमाल आज बिलकुल भी नहीं हो रहा है जैसे Floppy Disk पावर कनेक्ट का इस्तेमाल आज बिलकुल भी नहीं होता है Floppy Disk को बहुत ही पहले बंद कर दिया गया।

 

Molex Power Connector in Hindi

इसका इस्तेमाल बहुत खास होता है इस कनेक्टर से हम कंप्यूटर में एक्स्ट्रा कनेक्टर का इस्तेमाल कर सकते है मानलीजिए आप अपने Desktop Computer में और भी ज्यादा fan लगाना चाहते है तो इस कनेक्टर से मल्टीप्ल फैन लगा सकते है

इस कनेक्टर का इस्तेमाल सबसे ज्यादा गेमिंग कंप्यूटर में होता है क्योकि कंप्यूटर हाई प्रोसेसिंग कारण बहुत ही ज्यादा हीट होता है जिससे कूलिंग सिस्टम की आवश्यकता पड़ती है इसलिए इस कनेक्टर के इस्तेमाल से मल्टीप्ल कूलिंग फैन को कंप्यूटर में अटैच किया जा सकता है ये 4 पिन कनेक्टर होता है।

 

Types of SMPS in Hindi

  • Non-Modular
  • Semi-Modular
  • Full Modular

 

Non-Modular – तो चलिए सबसे पहले बात कर लेते है नॉन मॉड्यूलर पावर सप्लाई की तो हमलोग इस पोस्ट में अभी तक एसएमपीएस के बारे में पढ़ें। वो नॉन मॉड्यूलर की कैटेगरी में आता है

क्योकि इस SMPS में जितने भी कनेक्टर लगे होते है वो सभी के सभी अंदर से ही इनबिल्ड होते है यानि उनमे से एक भी कनेक्टर को हम एसएमपीएस से रिमूव नहीं कर सकते है।

Semi-Modular – सेमी मॉड्यूलर पावर सप्लाई में जो आपको सुविधा मिलता है वो है की आप इसमें कुछ कनेक्टर को रिमूव कर सकते है इसका बड़ा फायदा है

आप वैसे कनेक्टर को एसएमपीएस से रिमूव कर सकते है जिसका इस्तेमाल नहीं है परन्तु कुछ ऐसे कनेक्टर होते है जिसको का आप इस एसएमपीएस से रिमूव नहीं कर सकते है और ये एसएमपीएस के साथ ही इनबिल्ड ही आते है।

Full Modular – तो जैसे की नाम से पता चल रहा है इस एसएमपीएस में से हम सभी कनेक्टर को रिमूव कर सकते है इसका सबसे बड़ा फायदा है आप अपने जरुरत के अनुसार किसी भी कनेक्टर को अटैच कर सकते है या रिमूव कर सकते है

इसका और बड़ा फायदा ये है इसमें आपको अपने कनेक्टर को मैनेज करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

 

SMPS in Hindi

अभी तक आपको SMPS क्या है और कैसे काम करता है इसके बारे में पूरी जानकारी मिल चुकीं होगी। अब यदि आपको इस आर्टिकल से कुछ सीखने को मिला है तो निचे कमेंट जरूर करें।

यदि आपको एसएमपीएस के बारे में और भी अधिक जानकारी चाहिए जो इस पोस्ट में नहीं दर्शाया गया है तो से भी कमेंट के माध्यम से जानकारी ले सकते है।

ऐसी ही टेक्नोलॉजी और ब्लॉग्गिंग से सम्बंधित जानकारी हेतु ब्लॉग को सब्सक्राइब कर सकते है इससे कोई भी नई पोस्ट की इनफार्मेशन आपके मोबाइल के मेल बॉक्स में मिल जायेगा।

Leave a Comment

error: Content is protected !!