Python Language क्या है क्यों इस्तेमाल करते है

What is Python in Hindi क्या आप प्रोग्रामिंग में अपने करियर बनना चाहते है या पहले से ही प्रोगरामिंग में रूचि रखते है तो ये पोस्ट आपके लिए काफी ज्यादा हेल्पफुल हो सकता है।

क्योकि आज के इस पोस्ट में हम Python क्या है इसके बारे पूरी जानकारी हिंदी में लेने वाले है। इससे पहले की पहले की हम पाइथन के बारे में जाने उससे पहले अगर आप दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे C Language, HTML, और Java, जैसे लैंग्वेज को सीखना चाहते है तो आप हमारे ब्लॉग में जाकर इससे सम्बंधित आर्टिकल को पढ़ सकते है।

Python एक Programming Language है। और आज इस लैंग्वेज का इस्तेमाल हाई लेवल प्रोगरामिंग में किया जा रहा है। आज के समय में जितने भी डिवाइस है जैसे कंप्यूटर और मोबाइल इनके अंदर रन होने वाले सॉफ्टवेयर किसी न किसी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से ही बनाया गया होता है। और आज के समय में हम दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की बात करें तो यंहा आपको और भी बहुत सारे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज देखने को मिल जायेगा।

जैसे C, C++, HTML, JAVA इत्यादि और इन सभी लैंग्वेज को कंप्यूटर लैंग्वेज कहा जाता है। जिन्हे इंसान के द्वारा ही लिखे और समझे जाते है। और जितने भी अलग अलग लैंग्वेज होते है उनका फीचर भी अलग अलग होता है। जैसे टेक्नोलॉजी में बदलाव होते जा रहे है वैसे ही प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में भी विभिन्न प्रकार के बदलाव हो रहे है।

वैसे ही एक लैंग्वेज है Python Language इसे प्रोग्रामिंग कम्युनिटी इंडेक्स द्वारा दुनिया के Top 10 प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में तीसरे स्थान पर रखा गया है अब इसी से पता चलता है की ये प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कितना ज्यादा पॉपुलर है। जिसके बारे में हम इस पोस्ट में जानने वाले है।

 

Python क्या है Python kya hai

पाइथन एक हाई लेवल ओपन सोर्स प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसका इस्तेमाल करना बहुत ही सरल और आसान है और इसके साथ ही Python Language बहुत ही पावरफुल लैंग्वेज है।

र ये बहुत ही बेहतरीन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसकी हेल्प से हम किसी भी प्रकार के सॉफ्टवेयर को बहुत ही तेजी से बनाया जा सकता है। और पाइथन लैंग्वेज का इस्तेमाल डेस्कटॉप एप्लीकेशन, GUI एप्लीकेशन और वेब एप्लीकेशन, वेबसाइट बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

ये लैंग्वेज C,C++ की तरह ही एक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है परन्तु पाइथन लैंग्वेज और दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज अपेक्षा बहुत ही आसान है और इसका सिंटेक्स यूनिक है जिससे इस लैंग्वेज को यूजर आसानी से पढ़ सकता है। कुछ डेवलपर पाइथन लैंग्वेज को पढ़ कर ट्रांसलेट भी कर सकते है। Python पर Dynamic Type System और आटोमेटिक मेमोरी मैनेजमेंट की सुविधा उपलबध रहती है।

यही वो मुख्य फीचर है जिसके चलते प्रोग्राम के मेंटेनेंस और डेवलपमेंट की खर्च भी बहुत कम होता है। पाइथन लैंग्वेज बहुत ही पॉपुलर और पावरफुल है जिसके कारण इस लैंग्वेज का इस्तेमाल बहुत सी बड़ी कंपनियों में किया जा रहा है। जैसे इंस्टाग्राम, यूट्यूब, फेसबुक, क्वोरा,गूगल, इत्यादि।

 

पाइथन का इतिहास History of Python

अब तक हमने Python kya Hai इसके बारे में जाना है। अब हम Python के इतिहास के बारे में जानेंगे। पाइथन लैंग्वेज का अविष्कार नीदरलैंड के रहने वाले Guido Van Rossum के द्वारा किया गया था। पाइथन का शुरुआत करीब 1980 किया था और उसके दस साल बाद 1991 में Python Programming language को लांच किया गया।

उसके कुछ समय बाद जनवरी 1994 में पाइथन का पहला वर्शन Python 1.0 को रिलीज़ किया गया और उसी के कुछ समय बाद सन 2000 में Python का दूसरा वर्शन Python 2.0 को भी रिलीज़ कर दिया गया।

पाइथन का तीसरा वर्शन थोड़े समय के बाद दिसंबर 2008 में रिलीज़ कर दिया गया। और आज पाइथन का लेटेस्ट वर्शन 3.8.2 को फ़रवरी 2020 यानि इसी साल रिलीज़ किया गया है। और इसमें भाषा को इस तरह से बनाया गया है की इसमें लिखे गए कोड को आसानी से लिखे और पढ़े जा सकते है।

पाइथन लैंग्वेज की सबसे बड़ी खासियत है की इस लैंग्वेज को सीखने के लिए में किसी भी प्रकार के पैसे देने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। और इसके लिए किसी भी प्रकार के लाइसेंस की भी आवश्यकता भी नहीं पड़ती है। क्योकि ये जनरल पब्लिक लाइसेंस पर उपलब्ध एक फ्री सॉफ्टवेयर लाइसेंस है। जिससे यूजर को सॉफ्टवेयर चलाने और पढ़ने की सुविधा मिलती है।

अगर आप भी सोच रहे की पाइथन नाम का मतलब क्या होता है तो पाइथन नाम की उत्पति एक कॉमेडी शो के नाम से हुई थी जो की 1970 की दसक में बीबीसी कॉमेडी सीरीज द्वारा Moutan Python’s Flying Circus नाम के एक स्क्रिप्ट प्रकाशित हुई थी। इससे प्रभावित होकर Guido Van Rossum ने अपने प्रोग्रामिंग भाषा का नाम पाइथन रख दिया।

 

Python क्यों इस्तेमाल करते है

पाइथन लैंग्वेज का इस्तेमाल हम सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए करते है क्योकि पाइथन एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। और ये एक इंटरप्रिटेड लैंग्वेज भी है जिसका मतलब ये हुआ की इसमें लिखे गए प्रोग्राम के कोड को रन करने के लिए कंप्यूटर रेडबल फॉर्मेट में बदलकर कम्पाइल करना नहीं पड़ता है।

वही दूसरे प्रोगरामिंग लैंग्वेज में कोड को रन करने से पहले सोर्स कोड का ओबेजक्ट कन्वर्शन करना होता है। इन्टरप्रिटर की मदद से पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को लगभग सही कंप्यूटर पर रन किया जा सकता है। पाइथन एक मल्टीप्रोग्रॅमिंग लैंग्वेज है जिसको विंडोज, लिनक्स और मैक ऑपरेटिंग सिस्टम पर भी रन किया जा सकता है। और पाइथन को आज के समय में प्रोग्रामर द्वारा सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। पाइथन लैंग्वेज का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है जैसे

  • Web Application
  • Game Development
  • System Software
  • App Development
  • Computer Graphics
  • Website Creation
  • Server Side Programs

पाइथन का इस्तेमाल NASHA में भी किया जाता है जहां इसके इस्तेमाल से एकुप्मेंट और स्पेस मशीन और कई प्रकार के रिसर्च सॉफ्टवेयर को डेवलप करने के लिए किया जाता है। और Python Programming Language का इस्तेमाल अर्टिफिकल, डाटा सेण्टर में भी किया जाता है। और पाइथन की स्टैंडर लाइब्रेरी बहुत सारे इंटरनेट प्रोटोकॉल को भी सपोर्ट करती है। जैसे में HTML, XML, IMAP, FTP, इत्यादि।

 

Python Feature in Hindi

तो अब तक हमने Python Kya Hai और History of Python के साथ साथ पाइथन क्यों इस्तेमाल करना चाहिए इसके बारे में भी हमने जाना है अब इसके बाद हम पाइथन के कौन कौन मुख्य फीचर है इसके बारे में जानते है। वैसे तो पाइथन एक हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसको इस्तेमाल करना बहुत ही आसान है पाइथन के सोर्स कोड फ्री में अवेलेबल है जिसको आप Modify भी कर सकते है।

चुकी ये ओपन सोर्स है तो सभी यूजर इसको अपने अनुसार जो चाहे कर सकते है। और इसके सोर्स कोड को फ्री में इंटरनेट से डाउनलोड भी कर सकते है। पाइथन के बहुत सारे ऐसे फीचर है जो दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से इसको अलग अलग बनता है। जैसे की इसके बारे में हम एक एक करके जानते है।

 

Simple – पाइथन लैंग्वेज बहुत ही आसान भाषा है और इसको इस्तेमाल करना बहुत ही आसान है इसलिए इसको कंप्यूटर के भाषा में सबसे आसान भाषा में मना जाता है। पाइथन लैंग्वेज इतना ज्यादा आसान है की इसको वो भी वव्यक्ति आसानी से पढ़ सकता है जिसको पहले से भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में थोड़ा भी जानकारी नहीं हो। इसलिए पाइथन को सिंपल भाषा में सबसे ऊपर आता है।

Platform Independent – पाइथन लैंग्वेज ओपन सोर्स होने के कारण कई सारे प्लेटफार्म पर इस्तेमाल किया जाता है। जैसे लिनक्स, पाइथन, विंडोज, मैक ऑपरेटिंग सिस्टम,

क्योकि पाइथन का कोड किसी भी प्लेटफार्म पर बहुत ही आसानी से रन करता है। इसलिए अगर पाइथन लैंग्वेज को किसी भी ऑपरेशन सिस्टम पर लिखते है फिर भी उसके दूसरे किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम पर रन करा सकते है। और इसका मुख्य फायदा यह है की अलग अलग ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए अलग अलग प्रोग्रामिंग नहीं लिखना पड़ेगा।

Extensible Language – पाइथन लैंग्वेज पूरी तरह से Extensible Language है इसका मतलब ये हुआ की इसके सोर्स कोड के अंदर अन्य किसी दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के कोड को डाला जा सकता है।

Large Standard Library –  Python Programming Language में बहुत बड़ा Large Standard Library है यह लाइब्रेरी अनेक प्रकार के कार्यो के लिए मौजूद है। यह हमें रैपिड एप्लीकेशन डेवलपमेंट मॉडल और पैकेज का समृद्ध सेट प्रदान करती है जिसका मुख्य फायदा होता है की हमें अलग अलग टास्क के प्रोग्रामिंग लैंग्वेज लिखने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। और इसके अंदर ग्राफ़िक यूजर इंटरफ़ेस बनाने के लिए मॉडल है इत्यादि अन्य।

Python कैसे सिख सकते है

तो अगर आप कंफ्यूज है की हमें कौन से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना चाहिए। या अगर आप पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना चाहते है तो कैसे सिख सकते है और हमें पाइथन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना चाहिए इसके बारे में जानते है। तो सबसे पहले हम ये जानते है कैसे पाइथन लैंग्वेज को फ्री में सिख सकते है इसके बारे में जानते है।

Learn Python in Hindi को आप गूगल में जाकर सर्च करते है तो वंहा आपको बहुत सारे रिसोर्स मिल जाते है जिससे आप पाइथन लैंग्वेज को फ्री में सिख सकते है।

इन सभी के आलवा पाइथन को सीखने में यूट्यूब सबसे ज्यादा हेल्पफुल साबित हो सकता है क्योकि अगर आप यूट्यूब में Learn Python को सर्च करते है तो वंहा आपको ढेर सारे कंटेंट फ्री में अलग अलग भाषा में मिल जायेगा।

अगर आपके पास बजट है तो आप पाइथन के पैड कोर्स को Udemy जैसे वेबसाइट से परचेस कर सकते है या आप किसी इंस्टिट्यूट को ज्वाइन कर पाइथन का सर्टिफिकेट ले सकते है।

Network Marketing क्या है-Network Marketing in Hindi
Java Programming क्या है कैसे जावा सिख सकते है
Monitor क्या है और What is Monitor in Hindi
Graphics Card क्या है इसको लगाने के क्या फायदे है 😊

पाइथन क्यों सीखना चाहिए

आज के समय में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का जमाना है और इसके अंदर पाइथन का इस्तेमाल किया जाता है और आगे चलकर आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का बहुत सारे स्कोप आने वाला है।

इसलिए भी आप पाइथन को सिख सकते है या आप एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते है तो आपको पाइथन लैंग्वेज को सीखना बहुत ही जरुरी है

क्योकि पाइथन लैंग्वेज की हेल्प से आप किसी भी प्रकार के सॉफ्टवेयर को किसी भी प्लेटफार्म के लिए डेवेलप कर सकते है। या आप एक प्रोफेशनल एथिकल हैकर बनना चाहते तो भी आपको पाइथन लैंग्वेज को सीखना बहुत ही जरुरी है क्योकि पाइथन लैंग्वेज की हेल्प से Exploit भी बना सकते है।

आप एक बात जान ले आज के समय में अगर आपको हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में जानकारी है तो आप किसी भी कंपनी में अच्छी सेलेरी पर जॉब कर सकते है। इसके आलवा आप खुद का कम्पनी भी ओपन कर सकते है। आज प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के क्षेत्र में बहुत ही ज्यादा स्कोप है जिसका फायदा हम पाइथन को सीखने के बाद ले सकते है।

 

हमने जाना है

तो आज के इस टॉपिक में Python kya Hai इसके बारे में हमने बहुत कुछ सीखा है इसके आलावा पाइथन क्यों जरुरी है और हमें पाइथन क्यों सीखना चाहिए इसके बारे में भी पूरी जानकारी प्राप्त की है। अगर आपको आज हमारा पोस्ट पसंद आया है तो निचे कमेंट जरूर करें। अगर कोई सुझाव देना चाहते है वो भी निचे कमेंट में लिख सकते है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!