Java Programming क्या है कैसे जावा सिख सकते है

आज प्रोग्रामिंग के बारे में जानेंगे। वो भी हम Java Programming in Hindi में जानेंगे। आज पूरी दुनिया में प्रोगरामिंग लैंग्वेज कितना ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है आप सभी अच्छे से जानते है कंप्यूटर की दुनिया या यूँ कहे तो इंटरनेट की पूरी दुनिया प्रोग्रमिंग के ऊपर चलती है। यंहा तक की हम जिस डिवाइस से इस पोस्ट को पढ़ रहे है उसके अंदर जो ऑपरेटिंग सिस्टम लगा हुआ है वो भी कई प्रकार के प्रोगरामिंग लैंग्वेज से मिलकर बना हुआ है।

इंटरनेट के ऊपर हम जितना भी विसुअल को देखते उसके पीछे भी प्रोगरामिंग लैंग्वेज किया गया होता है। अगर आज हमारे पास Programming Language नहीं होता तो आज हम जितने भी डिवाइस को इस्तेमाल करते है जैसे टीवी, कंप्यूटर, मोबाइल, ऐसी, फ्रीज़, इत्यादि का इस्तेमाल नहीं कर पाते है।

आज कल सभी डिवाइस ऑटोमेटेड आते है यानि वो अपने वर्क को अपने आप करते रहते है। वो ऐसा इसलिए कर पाते है क्योंकि उसमे इंस्ट्रकशन को प्रोगरामिंग लैंग्वेज में लिखा गया होता है। आअ पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा इलेक्ट्रॉनिक Device Java Programming पर चलता है। Java Programming Language को सबसे ज्यादा पसंद भी किया है

अगर आप भी एक प्रोग्रामर बन कर ज्यादा से ज्यादा पैसे को कामना चाहते है और इसके लिए आप प्रोग्रामिंग Language लिखना चाहते है तो कुछ ऐसे प्रोगरामिंग लैंग्वेज है जिनका डिमांड आज मार्केट में बहुत ज्यादा है। उसी में से है Java Programming Language जिसको अगर आप लिख लेते है तो Android प्रोगरामिंग करना आपको आ जायेगा। तो इसलिए आज इस Post में Java Programming in Hindi के बारे में पूरा जानेंगे। और आप कैसे Java Language को सिख सकते है इसके बारे में भी जानेंगे।

 

Programming  क्या है

जावा प्रोग्रामिंग को समझने से पहले हम ये समझ लेते है की आखिर प्रोगरामिंग कहते किसे है और प्रोगरामिंग होता क्या है। तो प्रोग्रामिंग एक इंस्ट्रकशन का बंडल होता है जिसमे बहुत सारे इंस्ट्रक्शन को क्रिएट किया गया होता है और इसको क्रिएट करने के लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की आवश्यकता पड़ती है।

जब हम कंप्यूटर को कुछ इनपुट देते है वो इनपुट बाइनरी नंबर में कंप्यूटर के पास जाता है क्योकि कंप्यूटर सिर्फ बाइनरी नंबर को ही समझाता है। इसको एक एक्साम्प्ले से समझते है। जब हम कंप्यूटर में किसी बटन को प्रेस करते है तो कंप्यूटर को कैसे पता होता है की हमने कौन से बटन को प्रेस किया है। क्योकि इसके पीछे प्रोगरामिंग Language की हेल्प से कोडिंग किया जाता है। और ये बहुत सारे कोडिंग होता है और इसी कोडिंग को प्रोग्राम कहा जाता है। जिसको लिखने के लिए Programming Language जिसे हिंदी में मशीनी भाषा भी कहा जाता है।

तो चलिए अब हम प्रोग्रामिंग के कुछ उदाहरण को देखते है। जैसे रोबोट, अपने रोबोट तो कई बार देखा ही होगा, रोबोट के अंदर बहुत ही हाई लेवल की प्रोग्रामिंग किया होता है जिसमे कब क्या और कैसे करना है उसके बारे में इंस्ट्रकशन को प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के हेल्प से लिखा गया होता है। प्रोग्रामिंग का इस्तेमाल मशीन को ये बताने के लिए होता है की हम उससे क्या करना चाहते है जिसको सिर्फ एक कंप्यूटर या इलेक्ट्रॉनिक मशीन ही समझ सकता है।

Java Programming क्या है

जावा एक Object Oriented Programming Language है जिसे हाई लेवल लैंग्वेज भी कहा जाता है क्योकि इसको इंसान के द्वारा आसानी से पढ़ा और लिखा जा सकता है। और Java एक मल्टीपल प्लेटफार्म और डिस्ट्रिब्यूटेड प्रोगरामिंग लैंग्वेज है और इसका उपयोग Console Application, GUI Application, और Web Application, Mobile Application Development, Game Development, PC या अन्य सिस्टम को बनाने के लिए किया जाता है।

इन सभी के आलवा इस Java Programming Language का इस्तेमाल किसी भी डिवाइस के लिए सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन को डेवेलोपमेंट के लिए किया जाता है। और Java Programming Language और दूसरे जितने भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है उनके अपेक्षा इसको पढ़ना और लिखना बहुत ही आसान है और दूसरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से बेहतर और तेज भी है इन सभी के आलवा Java Programming Language सुरक्षित भी है इसलिए इसका इस्तेमाल आज के समय कंप्यूटर, मोबाइल, टैबलेट, टीवी वाशिंग मशीन, अन्य कई सारे इलेक्ट्रॉनिक गैजेट के अंदर भी किया जाता है।

और इसका सीधा उदाहरण है आज कल जितने भी फ़ोन बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, ऑनलाइन शॉपिंग, Java Programming की हेल्प से ही हो पा रहा है। और आज कल हम जितने भी स्मार्टफोनइस्तेमाल करते है उन सभी में जावा को सपोर्ट मिलता है।

गूगल ने लिनक्स को जावा से जोड़ते हुए स्मार्टफोन डिवाइस के लिए एंड्राइड को डेवेलोप किया है जो की ओपन सोर्स मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है और आज ये बहुत ही ज्यादा पॉपुलर भी है और आज जितने भी बड़ी कम्पनियाँ है वो एंड्राइड का इस्तेमाल अपने डिवाइस के अंदर कर रही है। यंहा तक की जावा Language की हेल्प से Website और ब्लॉग को भी क्रिएट कर सकते है। और सबसे बड़ा मोबाइल के लिए एप्लीकेशन को बहुत ही आसानी से डेवेलोप कर सकते है।

 

 

जावा के इतिहास History of Java in Hindi

जावा एक कंप्यूटर बेस्ड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसे जेम्स गोसलिंग (James Gosling ) और उनके एक साथी “सन माइक्रो सिस्टम”(Sun Micro System)
ने सन 1991 में बनाया गया था। जेम्स गोसलिंग को इस लैंग्वेज के प्रमुख डेवलपर मन जाता है। और इस लैंग्वेज को बनाने के पीछे उनका एक ही सिद्धांत था जो की बहुत ही प्रसिद्ध है। “Write Once Run Anywhere” जैसे की इससे पता चल रहा है की इसका मतलब था की इस लैंग्वेज को एक ही बार लिखा जायेगा।

परन्तु इसका इस्तेमाल सभी जगहों पर किया जायेगा। जब जेम्स गोसलिंग और उनके टीम ने इस लैंग्वेज को डेवेलप किया था तब उन्होंने इसका नाम OAK रखा था जिसके बाद इसके नाम को 1995 में बदलकर JAVA रख दिया गया। और जावा के टीम जिन्होंने Java को बनाया उन्हें “Green Team” भी कहा जाता है। सबसे पहले इन्होने एक लैंग्वेज को डेवलप करने के लिए इस प्रोजेक्ट को शुरू किया था जो की डिजिटल डिवाइस के लिए एप्लीकेशन को डेवलप करने में मदद करता है।

जावा को जितने भी कंस्यूमर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जैसे टीवी, सेटअप बॉक्स के लिए डेवलॅप किया गया था। परन्तु इसके खासियत को देखते हुए Java Programming इंटरनेट प्रोग्रामिंग के लिए बेस्ट प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बन गया। जावा का मुख्य और सबसे बिशेष फीचर है की ये Independent होता है यानि इस लैंग्वेज को किसी भी एक हार्डवेयर और ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए नहीं बनाया गया है।

इसलिए Java के इस्तेमाल से बनाये गए प्रोग्राम किसी भी सिस्टम पर रन किये जा सकते है। यही वो जावा का सबसे यूनिक फीचर है जो जावा को दूसरे लैंग्वेज से अलग और पॉपुलर बनता है। Java का पहल वर्शन JDK 1.0 को पहली बार 23 जनवरी 1996 में रिलीज़ किया गया था। उसके बाद से जावा के कई सारे वर्शन रिलीज़ हो चुके है जिसके बारे में हम आगे जानने वाले है।

Motherboard क्या है हिंदी में
HTML क्या है क्या काम करता हैकंप्यूटर कितने प्रकार के होते है हिंदी में
Operating System क्या है ये काम कैसे करता है

 

Java कितने प्रकार के होते है Types of Java

अगर Java Types की बात की जाये तो Java Programming लैंग्वेज बहुत ही बड़ा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। इसलिए Sun Micro System ने इसको कई हिस्सों में बाँट दिया है। और इसका सबसे बड़ा फायदा ये हुआ। जो भी प्रोग्रामर है जिस भी केटेगरी के सॉफ्टवेयर को डेवलप करना चाहते है। उन्हें सिर्फ उसी केटेगरी से सम्बंधित जावा को जानने की जरुरत पड़े। जावा को मूल रूप से तीन हिस्सों में बता गया है।

  1. Java Micro Edition (J2ME)
  2. Java Stander Edition (J2SE)
  3. Java Enterprise Edition (J2EE)

 

जावा के फीचर Feature of Java

  • Object-Oriented
  • Platform Independent
  • Secure
  • Simple Language

 

1.Object-Oriented –  इसमें सबसे पहला है ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड तो जावा एक शुद्ध ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। यानि इसको शार्ट में कहे तो “OOPS” है यानि इसमें प्रोसीज़र का प्रयोग नहीं किया जाता है परन्तु ये एक ऑब्जेक्ट पर आधारी लैंग्वेज है और Java OOPS के Concept को फॉलो करता है। और इससे सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और मेंटनेंस की काम को आसान बनाती है तो ये था पहला अब हम दूसरे के बारे में जानते है।

 

2.Platform Independent – जावा प्लेटफार्म इंडिपेंडेंट लैंग्वेज है यानि ये किसी भी प्लेटफार्म पर आसानी से रन कर सकता है। जैसे एंड्राइड, विंडोज, लिनक्स, और मैक। और इसकी खास बात यह है की इसे किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम में रन यानि एक्सक्यूटे किया जा सकते है। जैसे की इसको एक्साम्प्ले से समझते है मानलीजिए अपने किसी प्रोग्राम को विंडोज के लिए लिखा है तो उस प्रोग्राम को आप लिनक्स में भी रन करा सकते है।

 

3.Secure – जावा का तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण फीचर यह है की यह एक सुरक्षित लैंग्वेज है और ये आपको हाई सिक्योरिटी प्रोवाइड करता है। और जावा सबसे सुरक्षित इसलिए है क्योकि ये Java Run Time Environment में रन होता है और Machine Code Generate करने से पहले ये प्रोग्राम को JVM पर कुछ टेस्ट रन करके एरर को डिटेक्ट करती है। और जावा लैंग्वेज वायरस फ्री होती है जिससे प्रोग्राम को किसी भी प्रकार के हानि नहीं पहुँचती है और प्रोग्राम सुरक्षित रहते है।

 

4.Simple Language – जावा लैंग्वेज बहुत ही सरल और आसानी से याद रखने वाला लैंग्वेज है क्योकि इसमें C++ लैंग्वेज की तरह ही Syntax होते है जिसे आसानी से सीखे जा सकते है। परन्तु इसमें C++ की तरह Operator Overloading और Header File का प्रयोग नहीं किया जाता है। और यही कारण है की इसको सीखना और भी आसान हो जाता है।

 

5.Portable – जावा एक पोर्टेबल लैंग्वेज भी है क्योकि जावा की सोर्स कोड को Compiler की मदद से Byte Code में परिवर्तन किया जाता है। और ये जो Byte Code होता है वो किसी भी प्रकार के सिस्टम में रन हो जाता है। और इसलिए इसको आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।

 

6.Robust – Robust का मतलब होता है मजबूत यानी जावा से बनाया गया कोई भी प्रोग्राम अलग अलग Environment में बिना क्रैश हुए काम कर सकता है। यानि इसके प्रोग्राम कभी भी क्रैश नहीं होते है। और Java Programming के अंदर जो भी एरर आते है उन्हें आसानी से ढूंढ कर फिक्स किया जा सकता है। यही वो मुख्य कारण है जिससे जावा एक Robust Language है।

 

7.Distributed – Java एक डिस्ट्रिब्यूटेड लैंग्वेज है जिसका मतलब है Java प्रोग्राम इंटरनेट में रन करने के लिए बनाये जाते है और Java Language से हम डिस्टीब्यूटेड एप्लीकेशन बना सकते है डिस्ट्रिब्यूटेड एप्लीकेशन वो एप्लीकेशन होते है जो अलग अलग नेटवर्क पर डिस्ट्रीब्यूट होकर रहते है। परन्तु ये एक साथ मिलकर टास्क को परफॉर्म करते है। Java में http और ftp प्रोटोकॉल का प्रयोग किया जाता है जिससे की आसानी से इंटरनेट में डाटा को एक्सेस किया जा सकता है।

 

8.Multi  Threaded – जावा एक Multi Threaded लैंग्वेज है जिसका मतलब होता है जावा में बड़े बड़े प्रोग्राम को छोटे Sub Program में Dvide किया जाता है। और इन्ही Sub Program के क्रमानुसार Execute किया जाता है। और इसी तरह जावा एक साथ कई टास्क को परफॉर्म कर सकता है। और इस फीचर से जावा फ़ास्ट और इंटरैक्टिव बनता है और इस फीचर का इस्तेमाल मल्टीमीडिया और वेब एप्लीकेशन में किया जाता है।

 

जावा को कैसे सिख सकते है

अगर आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते है तो आपको कई प्रकार के प्रोगरामिंग लैंग्वेज के बारे में लिखना होगा। इसलिए सबसे पहले प्रोगरामिंग को बेसिक से समझना होगा। और इसके लिए जो सबसे आसान प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है उसे लिखना और समझाना शुरू करे। जैसे html, C Language इत्यादि और उसके बाद इन लैंग्वेज के फंडामेंटल को समझ लेते है

तब आप इससे छोटे छोटे प्रोग्राम को बनना सीखें। जब आपको प्रोगरामिंग के बेसिक फंडामेंटल के बारे में समझ में आ जाता है उसके बाद आप Java Language के बारे में सीखना शुरू करें। और Java के बेसिक प्रोगरामिंग को समझे। जब आपको जावा के बेसिक के बारे में थोड़ा जानकारी हो जाता है तब आप छोटे छोटे प्रोग्राम को बननासीखें।

इससे आप बहुत ही जल्द ही जावा को पूरी से समझ लेंगे। अब बात आती है की हम Java लैंग्वेज को सीखें कैसे। तो अगर आपके पास बजट है तो किसी इंस्टिट्यूट को ज्वाइन कर सकते है। या आप पैड कोर्स को Udemy जैसे प्लेटफार्म से खरीद सकते है।

अगर आपके पास पैसे नहीं है तो उस इस्तिथि में आप Youtube और Java जैसे ब्लॉग के माध्यम से Java Programming के बारे में सिख सकते है। जब भी आप अपने कंप्यूटर में प्रैक्टिस करे तो उसमे Program Editor का इस्तेमाल जरूर करे। इससे लैंग्वेज को सीखना और भी आसान हो जाता है।

 

लेख सम्बंधित

तो अब मैं आपको सिर्फ यही बताना चाहता हूँ जावा एक सिंपल और बहुत ही सिक्योर लैंग्वेज है जिसका इस्तेमाल आज के समय में पूरी दुनिया में 3 बिलियन डिवाइस में इस्तेमाल किया जाता है। आशा है आपको Java Programming in Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी। अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया है तो निचे कमेंट जरूर करे। और अगर आपके मन किसी भी प्रकार के सवाल है तो निचे पूछ सकते है। ऐसी ही पोस्ट को अपने मेल के माध्यम से पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!