सीपीयू क्या है कैसे काम करता है

आज हम 21वी सदी में जी रहे है आज का समय कंप्यूटर का समय है आज के समय में लगभग सभी काम कंप्यूटर से हो रहे है इसकी साथ ही आज के समय में कंप्यूटर और मोबाइल सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है अगर हम कंप्यूटर की बात करे तो एक कंप्यूटर को चलने के लिए बहुत सारे पार्ट्स की जरुरत होती है जैसे मॉनिटर कीवर्ड माउस मदर बोर्ड और सबसे मुख्य कॉम्पोनेन्ट CPU (Central Processing Unit) जिसे कंप्यूटर के दिमाग भी कहा जाता है

आज के इस पोस्ट में हम CPU Kya Hai इसके बारे में जानने वाले है। जब भी हम किसी शो रूम या किसी कंप्यूटर शॉप पर जाकर कंप्यूटर के खरीदने जाते है तो सबसे पहले हम कंप्यूटर की स्पेसफिकेशन के बारे में जानकारी लेते है जिसमे हम कंप्यूटर के CPU के बारे में सुनते कर जानते है। CPU किसी भी कंप्यूटर और मोबाइल का सबसे जरुरी कॉम्पोनेन्ट होता है जैसे किसी भी इंसान के लिए उसका दिमाग जरुरी है उसी तरह किसी भी कंप्यूटर के लिए CPU जरुरी है,

तो चलिए अब हम CPU के कुछ बेसिक के बारे में जान लेते है उसके बाद हम CPU की Definition के बारे में समझेंगे। मान लीजिए अगर आपसे कोई कुछ सवाल पूछता है तो सबसे पहले आप उसे अपने कान की मदद से सुनते है उसके बाद अपने दिमाग से उस सवाल को प्रोसेस यानि सोचते है उसके बाद ही आप उस सवाल के जवाब को देते है ठीक ऐसे कंप्यूटर में जब हम कीवर्ड और माउस की हेल्प से कोई इनपुट को देते है जिसके बाद जिस भी इनपुट को हम देते है वो सीधे कंप्यूटर के मदरबोर्ड पर लगे CPU के पास जाता है और CPU उस इनपुट को प्रोसेस करता है और प्रोसेस होने के बाद आउटपुट डिवाइस की हेल्प से हमें रिजल्ट शो होता है।

 

सीपीयू क्या है CPU Definition in Hindi

CPU का पूरा नाम है Central Processing Unit जो की कंप्यूटर का एक हार्डवेयर पार्ट्स है सीपीयू कंप्यूटर हार्डवेयर का एक ऐसा भाग है जो कंप्यूटर में सभी प्रकार एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर और प्रोग्राम को रन करने में मदद करता है। ये लगातार कंप्यूटर में इनस्टॉल ऑपरेटिंग सिस्टम को चलता रहता है ये कंप्यूटर के सभी इम्पोर्टेन्ट टास्क जैसे arithmetical, Logical, और Input Output को संभालता है

सीपीयू को और भी बहुत सारे नाम से जाना जाता है जैसे की Processor, Central Processor और Micro Processor इत्यादि इसके साथ ही लोग इसे कंप्यूटर का दिमाग भी कहा जाता है क्योकि ये कंप्यूटर के सभी प्रकार के हार्डवेयर की Instruction को Receive करता है और उसे प्रोसेस करता है। फिर उन सभी इंस्ट्रक्शन का रिजल्ट यूजर की सामने दिखता है। इसलिए इसे कंप्यूटर का सबसे जरुरी कॉम्पोनेन्ट होता है

तो CPU एक छोटा सा चिप होता है जो कंप्यूटर के मदर बोर्ड पर इन्सर्ट रहता है अगर हम CPU की बनावट की बात करे तो CPU चिप बहुत सारे छोटे छोटे ट्रांजिस्टर से मिलकर बना होता है. कंप्यूटर में जितने भी प्रोग्राम रन होता है वो सभी इन ट्रांजिस्टर की हेल्प से ही हो पता है। सीपीयू का स्पीड इतना ज्यादा होता है की ये लाखों प्रोसेस को हमारे पलक झपकते ही पूरा कर देता है। इससे आप ये अंदाजा लगा ही सकते है सीपीयू की क्षमता कितना ज्यादा होता है।

कंप्यूटर के जितने ज्यादा Capacity वाली सीपीयू लगा होता है उतना ही ज्यादा प्रोग्राम को प्रोसेस कर सकता है अगर वही हम पहले समय वाले कंप्यूटर की तुलना आज के समय से करे तो पहले कंप्यूटर का स्पीड बहुत कम हुआ करता था लेकिन आज के समय के कंप्यूटर का स्पीड बहुत ज्यादा है। क्योकि आज के समय कंप्यूटर में Multi core Processor का इस्तेमाल किया जाता है जिससे कंप्यूटर की स्पीड बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।

 

CPU कैसे काम करता है

बहुत सारे ऐसे लोग है जो कंप्यूटर के सिस्टम यूनिट जिसे कैबिनेट कहा जाता है उसे CPU समझ लेते है लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है सिस्टम यूनिट एक कंटेनर होता है जिसमे कंप्यूटर के सभी इंटरनल हार्डवेयर स्टोर होते है जैसे मोठेर्बोर्ड, ऑप्टिकल डिस्क ड्राइव, हार्डडिस्क ड्राइव, पावर सप्लाई यूनिट इत्यादि ये सभी के सभी पार्ट मदर बोर्ड से अटैच होते है सीपियु एक छोटा सा चिप होता है जो मदर बोर्ड पर अटैच रहता है

अगर आप CPU को देखना चाहते है तो सबसे पहले तो आप सिस्टम यूनिट को ओपेन करना पड़ेगा। जिसके अंदर मोठेर्बोर्ड स्टोर रहता है जब आप ऐसा करते है तब आपको मोठेर्बोर्ड के ऊपर एक फैन लगा देखेगा जिसे हीट सिंक कहा जाता है उसी फैन के निचे आपका प्रोसेसर लगा रहता है।

प्रोसेसर के ऊपर हीट सिंक इसलिए लगया जाता है क्योकि प्रोसेसर बहुत जल्द हीट होता है इसलिए हीट शिंक का कार्य होता है प्रोसेसर को कुल रखना इसके लिए प्रोसेसर और हीट शिंक के बिच में थर्मल पेस्ट इस्तेमाल किया जाता है। तो चलिए अब प्रोसेसर (CPU) के जरूरी कार्य प्रणाली के बारे में जानते है

CPU Function in Hindi

CPU अपने काम को तीन तरह से करता है इस तीन मेथड को पहले जो पुराने सीपीयू होते थे इसमें भी इस्तेमाल होता है भले ही आज सीपीयू एडवांस हो गया है लेकिन आज भी उसी मेथड का इस्तेमाल किया जाता है। सीपीयू अपने प्रोसेस को पूरा करने के लिए तीन मेथड Fetch, Decode, और Execute का इस्तेमाल करता है तो चलिए अब इसको बारे में पुरे डिटेल में जानते है।

 

Fetch

अगर हम कंप्यूटर में किसी भी प्रकार प्रोग्राम को रन करते है तो वो प्रोग्राम सबसे पहले कंप्यूटर में लगे मेमोरी जिसे RAM भी कहा जाता है उसके जाकर लोड होता है यानि प्रोग्राम RAM के अलग अलग मेमोरी लोकेशन में जाकर लोड होता है अब सीपीयू मेमोरी से पहले प्रोग्राम के पहले Interaction को Fetch करता है यानि सीपीयू जिस भी प्रोग्राम को पहले प्रोसेस करता है उसे सबसे पहले मेमोरी से सीपीयू में लेकर आता है जिसे Fetch कहा जाता है। अगर और भी आसान भाषा में समझे तो जब सीपीयू प्रोग्राम को मेमोरी (रैम) से सीपीयू में लेकर आता है तो उस प्रोसेस को Fetch कहा जाता है

 

Decode

जब सीपीयू मेमोरी से किसी प्रोग्राम को Fetch करता है तो वो प्रोग्राम bits के रूप में रहता है यानि इनफार्मेशन 010101 के रूप में रहता है अगर आप कंप्यूटर के बारे में जानते है तो आपको पता ही होगा कंप्यूटर में कोई भी इनफार्मेशन 0101 के फॉर्म में Receive होता है जिसे बाइनरी नंबर कहा जाता है तो जब सीपीयू Fetch कर इनफार्मेशन को मेमोरी से सीपीयू में लोड करता है वो सभी इनफार्मेशन 10101 रूप में रहता है अब इसको सीपीयू Decode करता है और ये पता लगता है ये इनफार्मेशन क्या कह रही है जब इसको समझ में आ जाता है ये इंस्ट्रक्शन क्या कह रही है तो ऐसी प्रोसेस को Decode कहा जाता है।

अगर हम इसको एक एक्साम्प्ले से समझे तो जब हम कंप्यूटर के कीवर्ड में किसी को बटन प्रेस करते है तब कंप्यूटर प्रेस की गयी बटन की इनफार्मेशन 010101 के रूप में Receive करता है इसके बाद सीपीयू उसे Decode कर ये पता लगता है की यूजर कीबोर्ड के कौन से बटन को प्रेस किया है। ये प्रोसेस इतना ज्यादा फ़ास्ट होता है की हमें पता भी नहीं चलता है।

 

Execute

अब CPU का तीसरा और आखिरी स्टेज होता है उस प्रोग्राम को Execute करना जो प्रोग्राम को cpu ने सबसे पहले Fetch और Decode किया होता है जब CPU किसी इनफार्मेशन डिकोड करता है उसके बाद उस प्रोग्राम को Execute करता है जिससे प्रोग्राम का रिजल्ट शो होने लगता है। जब रिजल्ट आ जाता है तब इस इनफार्मेशन को CPU स्टोर कर देता है cpu Execute इनफार्मेशन अपने अंदर Temporary स्टोर करता है इसी तरह कंप्यूटर में लगे CPU काम करता है। अगर आप कंप्यूटर कुछ टाइप करते है तो सबसे पहले cpu में सभी प्रोसेस कम्पलीट होते है उसके बाद ही आपका रिजल्ट आता है।

 

Operating System क्या है ये काम कैसे करता है
कंप्यूटर क्या है और कंप्यूटर के इतिहास

रैम क्या है कैसे काम करता है हिंदी में

 

सीपीयू के भाग Parts of CPU in Hindi

कंप्यूटर में लगे CPU कई सारे कॉम्पोनेन्ट से मिलकर बने होते है लेकिन CPU अपने कार्य को पूरा करने के लिए अपने मुख्य तीन कॉम्पोनेन्ट का इस्तेमाल करता है जिसका नाम निचे दिया गया है और उन तीनो के बारे में पुरे डिटेल्स में भी समझया गया है तो चलिए अब हम CPU के तीनो कॉम्पोनेन्ट के बारे में जानते है।

  • Memory
  • Control Unit
  • ALU (Arithmetic Logic Unit)

Memory (मेमोरी)

तो चलिए अब मेमोरी यूनिट के बारे में जानते है वैसे तो मेमोरी कंप्यूटर का भंडार होता है जंहा कंप्यूटर में सभी प्रकार की इनफार्मेशन सेव होता है जब CPU को किसी भी प्रकार का Instruction मिलता है तो वह सबसे पहले मेमोरी में स्टोर होता है और फिर जब CPU Instruction को प्रोसेस कर लेता है तब उस रिजल्ट को भी मेमोरी में स्टोर रखता है

CPU अपने कार्य के लिए अलग अलग मेमोरी का इस्तेमाल करता है जिसमे प्राइमरी मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी मुख्य मेमोरी होता है। जब कोई इंस्ट्रक्शन CPU को मिलता है तो वह सबसे पहले प्राइमरी मेमोरी में स्टोर होता है और जब cpu उस इंस्ट्रक्शन को प्रोसेस कर लेते है तब उसे सेकंड्री मेमोरी में स्टोर करता है।

Control Unit

कंट्रोल यूनिट को CU भी बोला जाता है जैसे की नाम से ही पता चल रहा है इसका काम होता है कण्ट्रोल करना Control Unit का काम होता है प्रोग्राम्स और ऑपरेशन्स को नियंत्रण करना। इसके साथ ही कण्ट्रोल यूनिट Logic Unit और Input & Output यूनिट को ये निर्देश देता है। कण्ट्रोल यूनिट डाटा और इंस्ट्रकशन को कण्ट्रोल करके रखता है।

ALU (Arithmetic Logic Unit)

ALU को Arithmetic Logic Unit भी कहा जाता है। ALU मुख्य दो काम होते है सबसे तो ये डाटा का Calculation करता है यानि ये ALU गणितीय क्रिया जैसे जोड़ घटाव गुना भाग इत्यादि को करता है उसके बाद दूसरा कार्य होता है उस रिजल्ट को सही ढंग से पेस यानि प्रदर्शित करना है जिसे Output भी कहा जाता है।

 

सीपीयू कितने प्रकार के होते है? Types of CPU in Hindi

जब हम कोई खरीदते है तो सबसे पहले हम ये सोचते है की आखिर हमें कौन से CPU अपने कंप्यूटर में लेने चाहिए क्योकि अलग प्रकार के CPU वाले कंप्यूटर मार्केट में मौजूद है जिनका क्षमता भी अलग अलग है अभी तक हमने ये अच्छे से जान चुके है CPU का कार्य है और CPU कितना इम्पोर्टेन्ट है किसी भी कंप्यूटर की क्षमता इसमें लगे प्रोसेसर पर निर्भर करता है

अगर आपका कंप्यूटर का प्रोसेसर की क्षमता कम है तब आपका कंप्यूटर किसी भी प्रोसेस को करने के लिए ज्यादा समय लगेगा। वही अगर अच्छी क्षमता वाले प्रोसेसर है तो आपकी कंप्यूटर की प्रोसेसिंग क्षमता बढ़ जाती है। जिससे आपका कंप्यूटर एक साथ कई सारे प्रोसेस को कर सकता है लेकिन बहुत सारे ऐसे लोग है जिन्हे प्रोसेसर के बारे में अभी पूरा जानकारी नहीं है।

दुनिया में दो सबसे बड़ी कंपनी है जो प्रोसेसर को बनती है पहला है Intel जिसका प्रोसेसर दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है दूसरा है AMD इंटेल के बाद से AMD का प्रोसेसर सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है इसके आलावा भी कई सारे कंपनी है जो प्रोसेसर बनाती है। तो चलिए अब हम Types of Processor in Hindi में जानते और समझते है।

Single Core Processor

सिंगल कोर प्रोसेसर इस प्रकार का प्रोसेसर पहले के समय में कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता है Single Core Processor बहुत ज्यादा स्लो होता था इस प्रोसेसर के साथ हम किसी भी कंप्यूटर पर एक समय में एक ही टास्क को परफॉर्म कर सकते थे अगर आप Multi Process को एक साथ करना चाहे तो नहीं कर सकते है।

अगर आपको नहीं पता है Core क्या होता है तो इसको एक एक्साम्प्ले से समझते है मान लीजिए कोई इंसान के पास एक हाथ है तो एक समय में एक ही कार्य को कर सकता है।अगर वो दो काम करना चाहत है तो सबसे पहले एक काम को करना होगा इसके बाद ही दूसरा काम करेगा। इस तरह अगर किसी कंप्यूटर में Single Core Processor लगा है तो समय में दो कार्य को नहीं कर सकता है अगर ऐसा होता है तो इस इस्तिथि में कंप्यूटर हैंग होने लगता है।

Dual Core Processor

अगर वही हम Dual-Core Processor की बात करें तो ये भी प्रोसेसर ही है लेकिन इसमें दो Core होते है इसलिए ये Multitasking होता है अगर हम इसको Single Core CPU से Compare करे तो Single Core Processor टास्क को एक एक करके प्रोसेस करता है वही अगर किसी कंप्यूटर में Dual Core प्रोसेसर लगा है तो एक साथ एक से ज्यादा टास्क को प्रोसेस कर सकता है। अगर आपको आपके कंप्यूटर में Dual Core Processor लगा है तो आप अपने कंप्यूटर में Multi प्रोग्राम का यूज़ कर सकते है। जैसे किसी किसी के पास दो हाथ है तो एक साथ ज्यादा काम को कर सकता है। वैसे ही ड्यूल कोर प्रोसेसर में भी है Dual-Core Processor अपने वर्क लोड को आपस में बाँट लेता है इसमें प्रोसेसर किसी भी टास्क को आसानी से परफॉर्म कर सकता है।

 

Quad-Core Processor

अब बात आती है Quad-Core CPU की जिसे Multi Core प्रोसेसर भी बोला जाता है इस प्रोसेसर के अंदर दो से ज्यादा प्रोसेसर आते है ऐसे प्रोसेसर हाई टास्क को बहुत ही आसानी से परफॉर्म कर सकते है आज कल के जितने भी कंप्यूटर आ रहे है ज्यादा तर कंप्यूटर में Quad-Core प्रोसेसर का इस्तेमाल किया जा रहा है Quad Core CPU किसी भी टास्क को बहुत ही आसानी से कर सकता है क्योकि इसमें Multi Core लगे होते है जो अपने वर्क लोड आपस में विभाजित कर लेते है

अगर गेमिंग कंप्यूटर को खरीदने जाते है तो आपको सभी में Multi core वाले प्रोसेसर ही मिलेंगे। क्योकि गेम में इस्तेमाल होने वह ग्राफ़िक बहुत ज्यादा हाई होता है जिसे को चलाने के लिए Multi core प्रोसेसर की आवश्यकता पड़ती है।

 

What is Core in CPU in Hindi

अगर आप कंप्यूटर खरीदने के बारे में सोचते है सबसे पहले आप CPU Core के बारे में जरूर सोचते है जैसे Core i7, Core i5, Core i6 इत्यादि। ये किसी भी कंप्यूटर में सबसे ज्यादा मेटर करता है अगर आप कंप्यूटर को खरीदते समय जितना ज्यादा Core वाले प्रोसेसर को सेलेक्ट करते है उतना ही ज्यादा आपको पैसे देने पड़ते है अगर कोर को हम टेक्निकली समझे तो Core CPU के अंदर लगा एक छोटा सा फिजिकल हार्डवेयर होता है जो हमारे कमांड को Execute करता है।

अगर इसको हम उदहारण से समझे तो मान लीजिए प्रोसेसर एक घर है और इसके अंदर रहने वाले लोग Core है। अब घर के अंदर जितना ज्यादा लोग रहेंगे उतना ही ज्यादा काम को कर सकते है वैसे ही प्रोसेसर में भी जितना ज्यादा कोर होगा उतना ही ज्यादा टास्क को एक साथ कर सकता है इसलिए जो ज्यादा Core वाले कंप्यूटर होते है जैसे Core i7, Core i5, Core i6 वो महनगे होते है।

 

Thread क्या है

Threat Cpu के अंदर मौजूद एक लॉजिकल पार्ट होता है जैसे Core Cpu का एक फिजिकल पार्ट है वैसे ही Threat Core का पार्ट है परन्तु ये Core का लॉजिकल पार्ट है और ये एक Core के अंदर दो Threat होते है जितना ज्यादा आपके प्रोसेसर में कोर होगा उतना ही ज्यादा Threat होंगे। Threat का काम होता है हमारे कमांड को रिसीव कराती है और उसको Execute और Decode करती है।

 

History of CPU in Hindi

अभी तक हमने CPU के बारे में पूरी जानकारी जान ली है लेकिंग अब हम Cpu के हिस्ट्री के बारे में जानने वाले है तो चलिए अब हम सीपीयू के इतिहास के बारे में जानने वाले है। अगर हम सबसे पुराना सीपीयू आधारित कंप्यूटर की बात करे तो उसका नाम था ENIAC और इसको 30 जून 1945 को बनाया गया था। और इन CPU का काम होता था प्रोग्राम और सॉफ्टवेयर को Execute करना। और इसलिए ऐसे फिक्स्ड प्रोग्राम कंप्यूटर कहा जाता था। परन्तु सबसे पहले सक्षम Cpu का आविष्कार Federico Faggin ने बनाया था और इसको Intel 4004 नाम दिया गया था और इसको सन 1971 में बनाया गया था।

तो अगर आप कंप्यूटर के बारे में पढ़ाई करते है तो अगर आपसे कोई पूछे प्रोसेसर का अविष्कार किससे किया था और कब किया था तो आप जवाब दे सकते है

प्रोसेसर का आविष्कार सन 1971 में Federico Faggin ने किया था जिसका नाम Intel 4004 था

Conclusion

आशा करता हूँ। आपको यह लेख की हेल्प से बहुत कुछ सीखा और समझा होगा। अगर आपको हमारा लेख What is CPU in Hindi अच्छा लगा है तो निचे कमेंट कर सकते है अगर आपको किसी प्रकार का सवाल है जो आप मुझसे पूछना चाहते है तो आप पूछ सकते है मेरे कोशिश रहता है आपको आपके जरुरत की हिसाब से जानकारी को उपलब्ध करना।

अगर आप Computer के बारे में और भी जानकारी लेना चाहते है तो आपको हमारे ब्लॉग पर पहले से ही बहुत सारे पब्लिश आर्टिकल मिल जायेंगे जो कंप्यूटर से समबन्धित है। इसके साथ ही नई पोस्ट की जानकारी को पाने के लिए हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करे। धन्यवाद

 

हेलो दोस्तों, मेरा नाम दिलीप गुप्ता हैं मैं Mytechinfo.in का संस्थापक हूँ मैं अपने ब्लॉग पर टेक्नोलॉजी से सम्बंधित पोस्ट लिखता हूँ और लोगो तक टेक्नोलॉजी के बारे पूरी जानकारी देने की कोशिश करता हूँ मेरा मकसद हैं ज्यादा से ज्यादा लोगो की हेल्प करना। अगर आप सभी को टेक्नोलॉजी से सम्बंधित कोई भी हेल्प चाहिए निचे कमेंट या ईमेल कर सकते हैं धन्यवाद

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      error: Content is protected !!
      MYTECHINFO
      Logo