Computer के विभिन्न उपकरणों हिंदी में

अभी तक हमें इस ब्लॉग पर कंप्यूटर के बारे में कई सारे पोस्ट को पब्लिश कर चुके हैं। जिसमे मैं आपको कंप्यूटर क्या है इसके बारे में बतया है और कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है उसके बारे में भी बताया है। परन्तु आज हम इस टॉपिक में Parts of Computer in Hindi में जानने वाले जिसमे हम कंप्यूटर के विभिन्न उपकरणों के बारे में जानेंगे।

क्योकि अगर आप इस पोस्ट को पढ़ रहे है तो आपको कंप्यूटर के उपकरणों के बारे में जानना भी बेहद जरुरी है। अगर आप कोई भी कॉम्पटेटिव एग्जाम की तयारी कर रहे है तो उसमे कंप्यूटर के बारे में सवाल जरूर पूछे जाते है जिसमे कंप्यूटर के उपकरणों के बारे में जरूर पूछा जाता है और जब से मोदी जी की सरकार आयी है तब ये नियम लागु हो चका है की आपको किसी भी सरकारी जॉब के लिए कम से कम कंप्यूटर की बेसिक सर्टिफिकेशन होना बेहद जरुरी है।

आज कल तो कंप्यूटर पर ज्यादा लोग निर्भर हो रहे है। इसलिए इन सभी के बारे में जानकारी रखना और भी ज्यादा जरुरी हो जाता है। अगर आप कंप्यूटर के उपकरणों के बारे में अच्छे से समझ लेते है तो आप अपने कंप्यूटर की किसी भी उपकरणों को बहुत ही आसानी के साथ बदल सकते है।

 

कंप्यूटर के विभिन्न उपकरणों

इसमें हम कंप्यूटर के विभिन्न उपकरणों के बारे में जानेंगे जो की एक नार्मल कंप्यूटर में इस्तेमाल होता है इसमें से कुछ उपकरणों ऐसे भी होते है जिनके बिना कंप्यूटर को नहीं चलाया जा सकता है और इनको कंप्यूटर के मुख्य पार्ट्स भी कहा जाता है। इससे पहले ये जान ले कंप्यूटर के सभी पार्ट्स को कई श्रेढियों में बता गया है जिसको निचे पुरे बिस्तार से बताया गया है। इसके आलावा भी कंप्यूटर के पार्ट्स के बारे में बताया गया जो कंप्यूटर की जरुरत के हिसाब से इस्तेमाल किया जाता है।

  1. Cabinet Case (कैबिनेट केस)
  2. Input Device (इनपुट डिवाइस)
  3. Output Device (आउटपुट डिवाइस)
  4. Storage Device (स्टोरेज डिवाइस)
  5. Other Component (अन्य हार्डवेयर)

 

Cabinet Case

कंप्यूटर के पार्ट्स में जो सबसे पहला पार्ट्स आता है उसे Cabinet Case (कैबिनेट केस) कहा जाता है जो कंप्यूटर के इंटरनल यानि कंप्यूटर के अंदर जितने भी पार्ट्स होते है वो सभी के सभी ऐसी कैबिनेट केस के अंदर स्टोर किए जाते है। और इन्हे कंप्यूटर केस भी कहा जाता है और ये साइज की आधार पर तीन प्रकार के होते है जो जिनका आकर एक दूसरे से छोटा बड़ा होता है।

  1. Full Tower Case
  2. Mid Tower Case
  3. Mini Tower Case
  4. Slim line cases or Desktop Case

 

इनपुट डिवाइस 

जिस भी उपकरण से हम अपने निर्देश को कंप्यूटर तक पहुंचाते है उसे इनपुट डिवाइस कहा जाता है।

इनपुट डिवाइस के अंदर कई अलग अलग प्रकार के कंप्यूटर के भाग यानि पार्ट्स आते है। और ये सभी के सभी इनपुट डिवाइस के केटेगरी में आते है अगर आपसे कोई इनपुट डिवाइस के बारे में पूछता है तब आप कंप्यूटर इन सभी पार्ट्स के बारे में बता सकते है। ये कुछ इनपुट डिवाइस की एक्साम्प्ले है

  1. Mouse (माउस)
  2. Keyboard (कीबोर्ड)
  3. Touch Screen (टच स्क्रीन)
  4. Scanner (स्कैनर)
  5. Web Cam (वेब कॉम)
  6. Track Ball (ट्रैकबॉल)
  7. Joystick (जॉयस्टिक)
  8. Light Pen (लाइट पेन)
  9. Microphone (माइक्रोफोन)
  10. Bar Code Scanner (बारकोड रीडर)

 

Mouse (माउस)

माउस एक हार्डवेयर और इनपुट डिवाइस है जिसकी हेल्प से हम कोई भी निर्देश और कोई भी कमांड को कंप्यूटर में इनपुट करा सकते है इसको हम अपने हाथों की हेल्प से चलाते है जब हम माउस को मूव करते है तब हमारे कंप्यूटर में एक एरो इधर उधर होता है जिसे हम कर्सर कहते है। माउस में दो बटन दिए होते है जिन्हें हम राइट क्लिक और लेफ्ट क्लिक कहते है इसके आलावा इन दोनों के बिच में व्हील दिया होता है जिसे ड्रैग बटन कहा जाता है।

 

Keyboard (कीबोर्ड)

कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है जिसके इस्तेमाल से हम कंप्यूटर में डाटा को इनपुट करते है कीबोर्ड का इस्तेमाल से हम कंप्यूटर में न्यूमेरिक डाटा को इंस्ट्रकशन के रूप में भेजते है कीबोर्ड दो प्रकार के होते है पहला नार्मल कीबोर्ड और दूसरा मल्टीमीडिया कीबोर्ड, और मल्टीमीडिया कीबोर्ड में नार्मल कीबोर्ड के अपेक्षा ज्यादा बटन होते है क्योकि ऐसे कीबोर्ड में मल्टीमीडिया की फीचर भी होता है।

 

Touch Screen (टच स्क्रीन)

टच स्क्रीन एक इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले होता है जिसे यूजर अपने हाथों की उंगलियों की हेल्प से इस्तेमाल करता है जैसे हम कंप्यूटर में माउस की हेल्प से कुछ भी इनपुट दे सकते है वैसे ही टचस्क्रीन सिस्टम से डायरेक्ट कनेक्ट होता है जिसको हम अपने उँगलियों की हेल्प से कण्ट्रोल करते है।

 

Scanner (स्कैनर)

स्कैनर एक इनपुट डिवाइस है जो किसी हार्ड कॉपी या फोटो ग्राफ को स्कैन कर डिजिटल फॉर्म में कन्वर्ट करता है जिसके बाद हम किसी भी हार्ड कॉपी को स्कैन कर अपने कंप्यूटर में रख सकते है ये एक जेरॉक्स मशीन की तरह कार्य करता है जो किसी भी हार्ड कॉपी को एक ही जैसे दूसरा सॉफ्ट कॉपी में कन्वर्ट कर देता है। इस डिवाइस को हम कंप्यूटर के USB पोर्ट या पैरेलल पोर्ट में लगाकर इस्तेमाल कर सकते है।

 

Web Cam (वेब कॉम)

वेब कैमरा जिसे वेबकैम भी कहा जाता है जो की एक इनपुट डिवाइस है अगर आप कैमरा कहीं देखते है जो की आज कल लैपटॉप के अंदर पहले से ही इनबिल्ड होता है अगर आप एक डेस्कटॉप यूजर है तो उसके लिए आप अलग से वेबकेम खरीद सकते है।

 

Track Ball (ट्रैकबॉल)

ट्रैकबॉल माउस की तरह ही होता है लेकिन नीचे की भाग ऊपर की तरह होता है जैसे की पहले जो मकैनिकल माउस में निचे की तरफ एक बॉल हुआ करता था ठीक उसी तरह ट्रैकबॉल में यूजर की तरह एक बॉल होता है जिसको घुमाने से कंप्यूटर में कर्सर मूव करता है ट्रैकबॉल में लगे बॉल को घुमाकर ही इनपुट प्रोवाइड किया जाता है। ट्रैकबॉल का इस्तेमाल तब होता था जब डिजिटल माउस नहीं हुआ करते थे।

 

Joystick (जॉयस्टिक)

जॉय स्टिक का इस्तेमाल गेम को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है और जॉयस्टिक में आम तौर पर एक से ज्यादा बटन होते है और ये एक इनपुट डिवाइस है जो गेम को खेलते समय कंप्यूटर को इनपुट देने के लिए इस्तेमाल में लिया जाता है। जॉय स्टिक में निचे की तरफ एक बॉल होता है जब जॉय स्टिक को मूव करते है तब जॉय स्टिक में लगे बॉल घूमता है जिससे कंप्यूटर गेम को कण्ट्रोल किया जाता है।

 

Light Pen (लाइट पेन)

Light Pen एक इनपुट डिवाइस है जो किसी भी कंप्यूटर सिस्टम की स्क्रीन में इनपुट देने का कार्य करता है ज्यादा तर इसका इस्तेमाल CRT (Cathode Ray Tube) डिस्प्ले के लिए किया जाता है जब लाइट पेन CRT डिस्प्ले को छूता है जंहा यह पास होते समय पर रास्टर को डिटेक्ट कर देता है

 

Microphone (माइक्रोफोन)

माइक्रोफ़ोन जिसे माइक भी कहा जाता है ये एक इनपुट डिवाइस है जो ऑडियो को इनपुट लेने का काम करता है अगर हमें अपने ऑडियो को रिकॉर्ड करना है तो उसके लिए हमें माइक्रोफोन की आवश्यकता पड़ती है। आज कल के लैपटॉप में माइक्रोफोन पहले से इनबिल्ड होते है इसके आलावा माइक्रोफोन को हम कंप्यूटर के जैक पोर्ट में कनेक्ट कर साउंड को इनपुट कर सकते है।

 

Bar Code Scanner (बारकोड रीडर)

बार कोड रीडर जिसे बारकोड स्कैनर भी कहा जाता है यह एक प्रकार की इनपुट डिवाइस है। बार कोड रीडर बार कोड को इलेक्ट्रॉनिक पल्स में कन्वर्ट कर कंप्यूटर में इनपुट करती है बार कोड एक तरह का कोड होता है जो की लाइट और डार्क बार के रूप में होता है। जिसको बारकोड रीडर की हेल्प से रीड यानि पढ़ा जाता है।

 

Output Device (आउटपुट डिवाइस)

अभी तक हमने इनपुट डिवाइस के बारे में जाना है। अब जानते है आउटपुट डिवाइस क्या है जब हम किसी भी इनपुट डिवाइस से कंप्यूटर को इनपुट देते है उसके बाद हमारे दिए गए इनपुट को जिस भी डिवाइस से आउटपुट यानि रिजल्ट मिलता है उन सभी डिवाइस को आउटपुट डिवाइस कहा जाता है। मानलीजिए अगर अपने कंप्यूटर को प्रिंट करने की निर्देश अपने कीबोर्ड से दिया जो कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस हो गया। जब कंप्यूटर प्रिंटर के माध्यम से प्रिंट निकालता है तो प्रिंटर आउटपुट डिवाइस हो गया। आउटपुट डिवाइस कई प्रकार के होते है।

Output डिवाइस के कुछ एक्साम्प्ले यह है।

  1. Moniter
  2. Printer
  3. Projector 
  4. Speaker 
  5. Plotter

 

Moniter (मॉनिटर)

मॉनिटर कंप्यूटर में प्राइमरी आउटपुट डिवाइस है जो वीडियो, इमेज, टेक्स्ट, को शो करता है और इसको विसुअल डिस्प्ले यूनिट (Visual display unit) भी कहा जाता है ये एक डिस्प्ले होता है जो एक टीवी की तरह होता है। जब हम कंप्यूटर में इनपुट देते है इनपुट सीधे CPU के पास जाता है जब CPU उस रिजल्ट को प्रोसेस कर लेता है उसके बाद हो उस रिजल्ट को मॉनिटर के ऊपर प्रदर्शित करता है। अगर आपके घर में टीवी है तो वो भी मॉनिटर की तरह ही एक आउटपुट डिवाइस है

 

Printer (प्रिंटर)

तो जैसे की हम जानते है प्रिंटर एक आउटपुट डिवाइस है जो स्कैनर की उल्टा काम करता है यानि स्कैनर हार्ड कॉपी को सॉफ्ट कॉपी में कन्वर्ट करता था वही प्रिंटर सॉफ्ट कॉपी को हार्ड कॉपी में कन्वर्ट करता है। यानि अगर कंप्यूटर में स्टोर किसी डॉक्यूमेंट को प्रिंटर करना है तो उसके लिए प्रिंटर की आवश्यकता पड़ती है।

ये किसी भी डॉक्यूमेंट, इमेज, टेक्स्ट, विसुअल को हार्ड वस्तु जैसे कागल के ऊपर प्रिंट करता है प्रिंटर कई प्रकार के होते है जैसे लेज़र प्रिंटर, डॉट मेट्रिक्स प्रिंटर, इंक जेट प्रिंटर, इत्यादि।

 

Projector (प्रोजेक्टर)

प्रोजेक्ट एक प्रकार की आउटपुट डिवाइस है जिसके अंदर बहुत सारे लेंस लगे होते। प्रोजेक्टर का काम होता किसी भी विसुअल जैसे इमेज कलर, वीडियोस और टेक्स्ट को बीम लाइट की मदद से बड़े आकर में प्रदर्शित करता है।

प्रोजेक्ट का विसुअल देखने के लिए वाइट कलर का इस्तेमाल किया जाता है जब प्रोजेक्ट से निकलने वाली लाइट वाइट सरफेस पर पड़ती है तब विसुअल बहुत ज्यादा आकर का दिखता है। प्रोजेक्टर का इस्तेमाल उस जगह किया जाता है जंहा ज्यादा से ज्यादा संख्या में ऑडियंस को दिखाना हो।

 

Speaker (स्पीकर)

स्पीकर कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाला एक कॉमन डिवाइस है जिसका इस्तेमाल साउंड के आउटपुट के लिए किया जाता है स्पीकर का काम होता है Electromagnetic wave को साउंड वेव में मदलता है यानि कन्वर्ट करता है जिससे तेज गति में ध्वनि निकालता है। आज कल स्पीकर लैपटॉप के अंदर पहले से ही इनबिल्ड होता है। अगर आप डेस्कटॉप को इस्तेमाल करते है तो इसके लिए आप अलग से स्पीकर को अपने डेस्कटॉप में लगा सकते है।

 

Plotter (प्लॉटर)

प्लॉटर भी प्रिंटर की तरह एक आउटपुट डिवाइस है जो किसी भी विसुअल को कागज पर प्रिंट करता है परन्तु इसका इस्तेमाल हर जगह न होकर अभियांत्रिक विभाग में होता है जिससे आर्किटेक्चर, ड्रॉइंग,या मैप को प्रिंट करने के लिए इस्तेमाल में लिया जाता है। अगर आप कही भी देखते है तो आपको बड़े बड़े होर्डिंग और बैनर देखने को मिलते है जो प्लॉटर से ही प्रिंट किये होते है। आज कल प्लॉटर का इस्तेमाल हर जगह होने लगा है जिससे बड़े से बड़े प्रिंट को त्यार किये जाते है।

 

संक्षेप से

तो आज हमने कंप्यूटर की उपकरणों (equipment of Computer) के बारे में जाना है जिसको जो कंप्यूटर में इस्तेमाल किये जाते है परन्तु कुछ ऐसे भी उपकरण है जिनके बारे में हमने इस पोस्ट में नहीं बताया है। अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा तो निचे कमेंट जरूर करे।

इसके आलावा हमने अपने ब्लॉग पर कंप्यूटर के बारे में और कंप्यूटर की टाइप्स के बारे में पोस्ट पब्लिश कर चूका हूँ।  आप उस पोस्ट को पढ़ना चाहते है तो लिंक मैं दे दिया हूँ।  आप इस प्रकार की पोस्ट को अपने मेल बॉक्स में पाना चाहते है तो ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करे। धन्यवाद

2 thoughts on “Computer के विभिन्न उपकरणों हिंदी में”

Leave a Comment

error: Content is protected !!