कंप्यूटर क्या है और कंप्यूटर के इतिहास

अगर आप एक स्टूडेंट और आप कंप्यूटर के बारे में जानकारी खोज रहे है तो आज  में आपको What is Computer in Hindi के बारे में पूरी जानकरी देने वाला हूँ। अगर आज के समय में कंप्यूटर की बात की जाये तो कोई ऐसा फील्ड नहीं है जंहा कंप्यूटर का इस्तेमाल न हो रहा हो। कंप्यूटर का इस्तेमाल से आज के दैनिक जीवन में कई सारे कामो काम कुछ ही समय में कर लेते है इसलिए तो कंप्यूटर इतना मददगार साबित हुआ है। अगर आप किसी स्कूल में पढ़ रहे है या किसी Collage या किसी इंस्टिट्यूट में आपको हर जगह कंप्यूटर के सब्जेक्ट को पढ़ने को मिल जाता है,

Computer in Hindi

आज के जितने भी प्रतियोगी परीक्षा हो रहे है उन सभी में कंप्यूटर से सम्बंधित सवाल जरुर पूछे जाते है तो ऐसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने कंप्यूटर के बेसिक जानकारी को इस आर्टिकल में बताया है क्योकि अगर आपको कंप्यूटर के बारे में जानना है तो कंप्यूटर के बेसिक जानकारी का होना जरुरी है। जब से नरेंद्र मोदी जी हमारे देश के प्रधान मंत्री बने है तभी से कम्प्यूटर का महत्व और भी बढ़ गया है और इसके लिए कई सारे कंप्यूटर कोर्स फ्री में सरकार के दौरा उब्लब्ध कराया गया है

जिसको आप फ्री में कर अपना सर्टिफिकेट ले सकते है अगर आपको कंप्यूटर का फ्री कोर्स करना है तो आप अपने क्षेत्र के नजदीकी PVKVY (प्रधान मंत्री कौशल बिकाश योजना) सेंटर पर विजिट कर अपने मनचाहे कोर्स को फ्री में एनरोल कर सकते है।

कंप्यूटर महतव को देखते हुए अगर आपको गोवेर्मेंट जॉब के लिए अप्लाई करना है तो उसके आपके पास कंप्यूटर के बेसिक का सर्टिफिकेट होना जरुरी है तभी जाकर आप गोवेर्मेंट जॉब के लिए अप्लाई कर सकते है, आने वाला समय कंप्यूटर का है इसलिए अगर आपको कंप्यूटर के बारे में जानकारी नहीं होगा तो आपको कुछ कठनाइयों को सामना करना पड़ सकता है आज के पोस्ट में हम कंप्यूटर क्या है और कंप्यूटर का इतिहास क्या है और कंप्यूटर कैसे काम करता है इसके बारे में पूरी कम्पलीट इनफार्मेशन को जानने वाले है।

 

कंप्यूटर क्या है? What is Computer

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो इनपुट डिवाइस के हेल्प से डाटा को इनपुट करता है उसके बाद अपने प्रोसेसिंग यूनिट के दौरा इनपुट डाटा को प्रोसेस कर आउटपुट डिवाइस के हेल्प से आपके रिजल्ट को प्रोवाइड करता है। प्रोसेस करने के लिए कंप्यूटर में लगे सभी इनपुट और आउटपुट डिवाइस होने चाहिए,

कंप्यूटर अपना रिजल्ट कुछ मैथमैटिक्स गड़ना के बेस पर शो करता है कंप्यूटर लैटिन के भाषा के सब्द Compute से लिए गया है जिसका अर्थ होता होता है गणना करना। पहले के समय में जितने भी सइंस्टिस्ट होते थे जो बड़े बड़े गणना को करते थे उस समय कंप्यूटर का अविष्कार नहीं हुआ था उन्ही सइंस्टिस्ट को कंप्यूटर कहा जाता था बाद में जब ऐसे यंत्र का आविष्कार हु जो बड़े से बड़े गणना को कुछ ही समय में कर देता था उसी को कंप्यूटर कहा जाने लगा।

तो चलिए अब हम कंप्यूटर को और भी सरल शब्दों में समझने की कोशिश करते है कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन जो हमारे दिए गए इनपुट (कीबोर्ड माउस) को अपने प्रोसेसिंग यूनिट (प्रोसेसर) के अंदर प्रोसेस कर जिसमे वह कई प्रकार के गणना करता है इसके बाद आपके रिजल्ट को आउटपुट डिवाइस (मॉनिटर) के माध्यम से रिजल्ट को प्रोवाइड करता है उन सभी प्रोसेस को Compute कहा जाता है.

वो सभी चीज जो गणना करने में सक्षम हो उसे कंप्यूटर कहा जाता है चाहे वो किसी भी प्रकार के डिवाइस ही क्यों न हो अगर वो किसी भी प्रकार के गणना को कर सकता है तो उसे कम्यूटर कहा जाता है जैसे मोबाइल, कैलकुलेटर, मीटर, इतयादि। अगर आप कहीं पढ़ने जाते है तो आपको कंप्यूटर का सब्जेक्ट जरूर पढ़ने को मिलता है क्योकि आज के समय कोई भी ऐसा काम नहीं है जो बिना कंप्यूटर के रहा हो अगर हमको कंही जाना है तो हम घर बैठे कंप्यूटर के हेल्प से अपना टिकट बुक कर सकते है इसके साथ ही कंप्यूटर के हेल्प से हम ऑनलाइन कुछ भी कर सकते है

आज कल कंप्यूटर का इस्तेमाल सिर्फ गणना तक ही सीमित नहीं है आज इसका इस्तेमाल म्यूजिकल, ग्राफ़िक्स, इंटरनेट, रिसर्च, मेडिकल इतयादि में सबसे ज्यादा हो रहा है.

 

कंप्यूटर काम कैसे करता है How Computer Work in Hindi

सबसे पहले कंप्यूटर को वर्क करने के लिए उसके सभी जरुरी पार्ट्स का होना बहुत ही जरुरी होता है क्योकि कंप्यूटर अपने कैलकुलेशन को पूरा करने के लिए अपने सभी पार्ट्स का इस्तेमाल करता है जब कंप्यूटर किसी बिषय बस्तु के बारे में बतौर इनपुट लेता है जिसके लिए हम इनपुट डिवाइस जैसे कीवर्ड, माउस, जैसे इनपुट डिवाइस का इस्तेमाल करते है इसके बाद कम्प्यूटर उस इनफार्मेशन अपने प्रोसेसिंग यूनिट जिसे कंप्यूटर का दिमाग यानि CPU भी कहा जाता है अब कंप्यूटर अपने प्रोसेसिंग यूनिट में उस इनफार्मेशन को प्रोसेस करता है जब प्रोसेस कम्पलीट हो जाता है तो कंप्यूटर उस इनफार्मेशन को अपने आउटपुट डिवाइस जैसे मॉनिटर LED, स्पीकर इत्यादि से प्रोवाइड(प्रस्तुत) करता है।

कंप्यूटर इन सभी प्रोसेस को करने में कुछ मिली सेकंड का समय लेता है जो पलक झपकते हो जाता है। अब इसको हम एक एक्साम्प्ले से समझते है जैसे कोई इंसान किसी बात को अपने कोनों की मदद से सुनाता है और उसके बाद अपने दिमाग के मदद से सोचता है और फिर अपने जुबान के मदद से उस बात का जवाब देता है वैसे ही कंप्यूटर काम करता है

 

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया

Computer Kya hai hindi me

Computer Kya hai hindi me

पहले के समय में जिस चीज को गणना करने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता था उसे कंप्यूटर कहा जाता था वो सभी मकैनिकल डिवाइस थी उन्ही को कंप्यूटर कहा जाता था। अबैकस को पहला कंप्यूटर कहा जाता था सबसे पहले कई सारे कंप्यूटर का अविष्कार किया गया लेकिन किसी में मेमोरी का सुबिधा नहीं था अतः सत्रहवीं शताब्दी में चार्ल्स बैवेज ने एक ऐसे मशीन का अविष्कार किया जिसमे मोमोरी डाला जा सकता था इसके बाद से आधुनि युग का की शुरुआत हुआ और आगे चलकर सभी कंप्यूटर में मेमोरी का इस्तेमाल होने लगा इसलिए चार्ल्स बैवेज को कंप्यूटर का अविष्कारक और कंप्यूटर का पिता भी कहा जाता है।
चार्ल्स बैवेज ने कम्प्यूटर का अविष्कार 1837 में किया था जिसमे पहली बार मेमोरी का इस्तेमाल किया गया था

 

कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है

ऐसे तो काम के आधार पर कंप्यूटर तीन प्रकार के होते है तो चलिए उनको एक एक करके समझते है

Computer Kya hai hindi me

  1. Analog Computer
  2. Digital Computer
  3. Hybrid Computer

1

Analog Computer

एनालॉग कंप्यूटर में डाटा ट्रांसमिशन सीधे इकाई में होता है जिसे एनालॉग ट्रांस्मिशन भी कहा जाता है इसमें कंप्यूटर Analog Signal का इस्तेमाल करता है Analog कंप्यूटर ऐसे कंप्यूटर है जिसका इस्तेमाल दबाव तापमान गति वोल्टेज पारे जैसे भौतिक मात्रक को मांपने के लिए किया जाता है यहाँ हमने Analog कंप्यूटर के कुछ उदाहरणों को दिया है जैसे थर्मामीटर, वोल्ट्मीटर, ब्लडप्रेसर डिटेक्टर इत्यदि।

2

Digital Computer

डिजिटल कंप्यूटर वो डिजिटल टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते है और इनमे माइक्रोप्रोसेसर का इस्तेमाल किया जाता है ऐसे कंप्यूटर 1 सेकंड के अंदर करोडो गणना कर सकते है डिजिटल कंप्यूटर बाइनरी वैल्यू 0, 1 के आधार पर काम करते है मतलब अगर हम अपने कंप्यूटर के कीबोर्ड से कुछ प्रेस करते है तो वो इनफार्मेशन 0 1 के फॉर्मेट में जाता है क्योकि कंप्यूटर हमारे भाषा को नहीं समझता है इसलिए ये 0, 1 के आधार पर काम करता है 0 मतलब False (गलत) और 1 True (सही) यानि सही। 0, 1 को भी कई श्रेणी में बता गया है

आज कल Analog Computer के जगह भी डिजिटल कंप्यूटर का इस्तेमाल होता है जैसे पहले किसी भी वाहन में एनालॉग मिटेर लगे होते थे जिसमे एक सुई लगी होती थी। लेकिन आज के समय में ज्यादातर वाहन में डिजिटल मीटर लगे होते है। डिजिटल कंप्यूटर को भी कई श्रेणी में बाँटा गया है जिसके बारे में हम आगे जानने वाले है

 

3

Hybrid Computer

हाइब्रिड कंप्यूटर ऐसे कंप्यूटर होते है जिनमे डिजिटल और एनालॉग दो के बिशेषताए मिश्रण होता है ऐसे कंप्यूटर को हाइब्रिड कंप्यूटर कहा जाता है हाइब्रिड कंप्यूटर का इस्तेमाल बड़े लेवल पर किया जाता है क्योकि हाइब्रिड कंप्यूटर की क्षमता दूसरे कंप्यूटर के अपेक्षा बहुत ज्यादा होता है ऐसे कंप्यूटर का इस्तेमाल सैन्य सुरक्षा, वैज्ञानिक गणना, और मेडिकल के क्षेत्र में ज्यादा हो रहा है हाइब्रिड कंप्यूटर का कुछ उदहारण यहाँ दिए गए है जैसे ई-सी-जी मशीन, इत्यदि।

 

आकार के आधार पर

 

Micro Computer

माइक्रो कंप्यूटर और कंप्यूटर के अपेक्षा बहुत ही छोटा होता है माइक्रो कंप्यूटर के अंदर एएलयू और सी-पि-यु (CPU) एक ही चिप के अंदर स्टोर होते है ऐसे कंप्यूटर को माइक्रो कंप्यूटर कहा जाता है ये कंप्यूटर बहुत छोटा और बजट में सस्ता होता है इस कंप्यूटर को कही भी ले जा सकते है और कही भी रख कर चला भी सकते है, Micro कंप्यूटर का प्रोसेसिंग छमता कम होती है। जैसे लैपटॉप, Palmtop इत्यादि।

 

Mini Computer

ऐसे कंप्यूटर माइक्रो कंप्यूटर से अधिक पावर फुल होते है और मिनी कंप्यूटर का आकर भी माइक्रो कंप्यूटर से थोड़ा बड़ा होता है ऐसे कम्प्यूटर का इस्तेमाल एक साथ कई कामो के लिए किया जा सकता है मिनी कंप्यूटर डाटा को माइक्रो कंप्यूटर के अपेक्षा तेजी से प्रोसेस करता है और ये मल्टीटास्किंग होते है यानि एक समय में एक से ज्यादा यूजर इस कंप्यूटर को इस्तेमाल कर सकते है मिनी कंप्यूटर को मिड रेंगे कंप्यूटर भी कहा जाता है मिनी कंप्यूटर का इस्तेमाल रिसर्च, प्रेजेंटेशन, डाटा मैनेजमेंट इत्यादि के लिए किया जाता है।

 

Mainframe Computer

ऐसे कंप्यूटर का आकार बहुत ज्यादा बड़ा होता है और इसकी प्रोसेसिंग क्षमता भी बहुत ज्यादा होती है मेनफ्रेम कंप्यूटर एक साथ बहुत सारे डाटा को कुछ ही समय में प्रोसेस कर देता है ऐसे कम्प्यूटर की स्ट्रोगे क्षमता बहुत ही ज्यादा होता है ये किसी भी डाटा को बहुत ही तेजी के साथ प्रोसेस करने में सक्षम है ऐसे कंप्यूटर का इस्तेमाल बड़ी बड़ी कंपनियों और सुरक्षा बिभाग और सरकारी विभागों में किया जाता है मेनफ़्रेम कंप्यूटर बहुत ज्यादा बिश्वशनिये होते है और इनमे हाई सिक्योरिटी का फीचर होता है.

 

Super Computer

सुपर कंप्यूटर जो की दुनिया का सबसे बड़ा आउट सबसे तेज कंप्यूटर को कहा जाता है ये दुनिया में सबसे तेज कंप्यूटर होते है इनका इस्तेमाल बड़ी से बड़ी कैलकुलेशन करने के लिए किया जाता है और इनका आकार भी बहुत बड़ा होता है सुपर कंप्यूटर सामान्य कम्प्यूटर के अपेक्षा अधिक डाटा को संसोधित करते है सुपर कंप्यूटर का इस्तेमाल Specially किसी बड़े कामो के लिए किया जाता है जो कोई सामान्य कंप्यूटर नहीं कर सकता है सुपर कंप्यूटर का इस्तेमाल करने के लिए सभी को अनुमति नहीं होती है और सुपर कंप्यूटर बहुत ही ज्यादा एक्सपेंसिव भी होते है जिन्हे हर कोई अफ़्फोर्ड नहीं कर सकता है दुनिया का पहला सुपर कंप्यूटर क्रे-1 है जो वर्ष 1976 में क्रे-रिसर्च कंपनी दौरा बनाया गया था। और आज दुनिया के सबसे तेज सुपर कंप्यूटर जो चीन के पास है जिसका नाम Tianhe-2 है और भारत का पहला सुपर कंप्यूटर परम-10000 है।

 

कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर क्या है

हमारे कंप्यूटर में जितने भी फिजिकल कॉम्पोनेन्ट लगे होते है जिन्हे हम टच कर सकते है यानि की कीबोर्ड माउस इत्यादि ये सभी के सभी कंप्यूटर हार्डवेयर के Category में आ जाते है कंप्यूटर सॉफ्टवेयर डाटा का कलैक्शन होता है जिसे कोडिंग के जरिये तैयार किया जाता है जो ये बताते है कंप्यूटर को कैसे काम करना है।

 

 

कंप्यूटर के पार्ट्स Parts Of Computer in Hindi

Motherboard

कंप्यूटर के सबसे जरूरी कॉम्पोनेन्ट जिसे Motherboard कहते है और ऐसे प्रिंटेड सर्किट बोर्ड भी कहा जाता है मदर बोर्ड को कंप्यूटर का मेन कॉम्पोनेन्ट इसलिए कहा जाता है क्योकि कम्प्यूटर जितने भी पार्ट्स सभी के सभी मदर बोर्ड से कनेक्ट होते है। मदर बोर्ड एक बोर्ड की तरह होता है जिसमे कंप्यूटर के पार्ट्स कनेक्ट होते है जैसे RAM, CPU, Hard Disk, Graphic Card, Optical Disk Drive, Expansion Card, Heat Sink इत्यादि

 CPU

सीपीयू जिसे सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट भी कहा जाता है सीपीयू को कंप्यूटर का दिमाग भी कहा जाता है सीपीयू का काम होता है प्रोसेसिंग करना यानि जो हम कंप्यूटर से चाहते है उसे प्रोवाइड करना। जब हम कीबोर्ड के हेल्प से कोई इनपुट को भेजते है तो वो प्रोसेसर में ही जाकर प्रोसेस होता है इसके बाद हमें किसी भी आउटपुट डिवाइस की हेल्प रिजल्ट मिलता है प्रोसेसर के अंदर Cache Memory लगे होते है जो हमारे दिए Input पहले स्टोर करते है उसके बाद प्रोसेस करते है।

 

Hard Drive

जब हम कंप्यूटर किसी डाटा को स्टोर करते है तो वो सभी के सभी डाटा हार्डड्रिवे के अंदर स्टोर होता है वो डाटा कुछ भी हो सकता है जैसे Music, File, Folder, Videos, इत्यादि। कंप्यूटर में अलग अलग साइज के हार्डड्रिवे लगे होते है जितना ज्यादा आपका हार्डड्रिवे का साइज होता है उतना ही ज्यादा आप डाटा को स्टोर कर सकते है। हार्ड ड्राइव के भी अलग अलग प्रकार होते है,

RAM

RAM (Random Access Memory) एक Nonvolatile Memory है जो डाटा को Temporary स्टोर करके रखता है जब हम कंप्यूटर में फाइल फोल्डर या किसी सॉफ्टवेयर को ओपन करते है तो उस समय कंप्यूटर उस डाटा को अपने RAM के अंदर स्टोर कर लेते है अगर हमारा कंप्यूटर बंद हो जाये तो RAM में सेव डाटा आटोमेटिक डिलीट हो जाता है इसलिए तो जब हम कंप्यूटर में किसी डॉक्यूमेंट को एडिट करते वक़त अगर कंप्यूटर बंद हो जाता है तो हमारा डाटा डिलीट हो जाता है क्योकि उस समय वो RAM के अंदर स्टोर रहता है वही जब हम उसको सेव कर देते है तो डाटा हार्डड्रिवे के अंदर स्टोर हो जाता है।

 

SMPS (Simple Mode Power Supply)

इसे Power Supply Unit के नाम से भी जाना जाता है PSU का काम AC को DC में कन्वर्ट कर कंप्यूटर के सभी पार्ट्स को उनके जरुरत के हिसाब से Power को। Supply करना। PSU हमारे कंप्यूटर में लगे सभी Parts को उनके आवश्यकता के हिसाब से पावर को सप्लाई करता है

 

Expansion Card

Expansion Card का इस्तेमाल कंप्यूटर के फीचर को अपग्रेड करने के लिए करते है किसी भी डेस्कटॉप कंप्यूटर के मदर बोर्ड पर Expansion Slot दिए होते है जिन्हे हम PCI Slot के नाम से भी जानते है Expansion Card के इस्तेमाल से अगर हमें कंप्यूटर के फीचर में उपग्रडेशन करना है तो कर सकते है Expansion Card अलग अलग प्रकार के होते है। Videos Card, Graphic Card, Sound Card, Wireless Card इत्यादि।

 

ODD (Optical Disk Drive)

ODD का इस्तेमाल कंप्यूटर में CD और DVD को इन्सर्ट करने के लिए करते है ODD के हेल्प से हम अपने कंप्यूटर में किसी भी प्रकार के CD और DVD प्लेयर का इस्तेमाल कर पाते है। जब हम अपने कंप्यूटर के लिए OS (ऑपरेटिंग सिस्टम) खरीदते है तो वह आपको OS का CD मिलता है जिसको अपने कंप्यूटर के ODD में इन्सर्ट कर OS इंस्टालेशन करते है।

 

Generation of Computer in Hindi

 

पहली पीढ़ी (1945-1954) Vacuum Tubes

इसे कंप्यूटर विकास का पहला पीढ़ी माना जाता है पहले जनरेशन कम्प्यूटर Vacuum Tubes का इस्तेमाल किया गया था जिसकी हेल्प से कंप्यूटर गणना करने में सक्षम हुआ। ये कंप्यूटर आकार में एक रूम के बराबर थे हुए ऐसे कंप्यूटर को चलने के लिए काफी ज्यादा मात्रा में बिजली की खपत होती थी और ऐसे कंप्यूटर को चलने के लिए काफी ज्यादा मेहनत और खर्च उठाना पड़ता था।

 

दूसरी पीढ़ी (1955-1964) ट्रांजिस्टर

Second Generation Computer के क्षेत्र में काफी ज्यादा बदलाव हुए उसके कंप्यूटर में Vacuum Tubes की जगह ट्रांसिस्टर्स का इस्तेमाल होने लगा जिसके बाद कंप्यूटर का आकार पहले के अपेक्षा छोटा हो गया और ट्रांसिस्टर्स तेज होने से कंप्यूटर के प्रोसेसिंग पावर और भी बढ़ गया। और Transistor के होने से बिजली का खपत भी काम होने लगा। और Transistor Vacuum Tube के अपेक्षा ज्यादा चलता भी है।

 

तीसरी पीढ़ी (1965-1974) आई0सी0

Third generation Computer में IC इंटीग्रेटेड सर्किट का इस्तेमाल किया गया था और इसमें ट्रांसिस्टर को बहुत ज्यादा छोटे कर सिलिकॉन चिप में रखा गया था जिसको आज के समय में Semi Contender कहा जाता है इससे कंप्यूटर तुलनात्मक भरेसेमन्द और तेज हो गया है इसके बाद से कंप्यूटर में प्रोसेसिंग की क्षमता और भी ज्यादा बढ़ गया और कंप्यूटर का आकर भी छोटा हो गया।

 

चौथी पीढ़ी (1975 के बाद) Micro Processor

Fourth Generation Computer जो की कंप्यूटर इतिहास का सबसे सफल जनरेशन माना जाता है क्योकि इस जनरेशन में Micro processor का इस्तेमाल किया गया था और ये सभी जनरेशन से तेज भोरेसेमन्द और छोटा भी था इस जनरेशन में कंप्यूटर को इतना छोटा कर दिया गया था की कोई भी कंप्यूटर को उठा कर कही भी ले जाया जा सकता था। इस जनरेशन में हजारों IC को एक ही Silicon Chip के अंदर फिट कर दिया गया। इससे कंप्यूटर की क्षमता और भी ज्यादा बढ़ गया।

 

पांचवी पीढ़ी  (Present Time) Artificial Intelligence

Fifth Generation Computer जो आज हमारे बीच इस्तेमाल हो रहा है Fifth जनरेशन कंप्यूटर में आर्टिफीसियल Intelligence का इस्तेमाल किया जा रहा है इसको सीधा उद्धरण Speech recognition है Fifth Generation कंप्यूटर में Artificial Intelligence यानि इस्तेमाल होगा जिसमे कम्प्यूटर कोई भी decision अपने आप ले सकता है इसमें कंप्यूटर सही और गलत क्या है समझ सकता है आने वाले समय में आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल बहुत ही ज्यादा होने वाला है।

 

कंप्यूटर का महत्व

Computer एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिसका इस्तेमाल हर जगह हो रहा है अगर हम मेडिकल फील्ड की बात करे तो कंप्यूटर लोगो के लिए वरदान साबित हुआ है क्योकि आज हर बीमारी का इलाज है वो कम्प्यूटर के हेल्प से मुमकिन हुआ है क्योकि जिस रिसर्च को डॉक्टर करने में कई साल लगा देते थे कंप्यूटर के हेल्प से आज हम किसी भी रिसर्च जल्द जल्द से कर सकते है

कंप्यूटर Medical में किसी भी इंसान के बीमारी को कुछ ही सेकड़ो में पता लगा लेता है इसलिए आप जहा भी जायेंगे मेडिकल फील्ड में सबसे ज्यादा कंप्यूटर का इस्तेमाल हो रहा है कंप्यूटर के हेल्प से आज हम किसी भी जीव के शरीर के अंदर देख सकते है इसके साथ ही किसी भी बीमारी का इलाज भी निकल सकते है।

रिसर्च के फील्ड में कंप्यूटर का सबसे अहम रोल रहा है क्योकि आज कंप्यूटर के हेल्प से हमारे समय की सबसे ज्यादा बचत हो रहा है सोचिये अगर कुछ समय पहले की बात की जाये जब कंप्यूटर नहीं था उस समय से इतना जल्द कोई भी काम नहीं हो पता था बड़ी बड़ी गणना को करने के लिए कई सारे बैज्ञानिक को एक साथ काम करना पड़ता था

लेकिन आज के समय में कंप्यूटर के हेल्प से जटिल से जटिल काम को कंप्यूटर कुछ ही सेकड़ो में कर सकता है कम्प्यूटर के आ जाने से हमारे अंदर कोई सारे बिकाश बहुत तेजी से हुए है सोचिये आज अगर कंप्यूटर नहीं होते तो क्या हम चाँद पर पहुंच पाते लेकिन आज के समय में कम्प्यूटर के हेल्प से इंसान चाँद पर भी पहुंच गया है और जैसे जैसे समय बीतता जा रहा है कंप्यूटर का उपयोग और भी ज्यादा होने लगा है

संचार में कंप्यूटर का योगदान आप सब को पता ही होगा क्योकि संचार में कंप्यूटर का उपयोग कई तरह से हो रहा है पहले अगर किसी को सुचना पहुंचना होता था या किसी से कम्यूनिकेट करना होता था उस समय कंप्यूटर न होने के कारण लेटर का इस्तेमाल करना पड़ता था जिसमे बहुत ज्यादा समय लगता था लेकिन आज कंप्यूटर से हम किसी को भी तुरंत ईमेल को भेज सकते है यहाँ तक की हम वीडियोस के माध्यम से एक दूसरे को देख भी सकते और बात भी कर सकते है और ये सब कंप्यूटर के हेल्प से हो पता है।

एजुकेशन के क्षेत्र में कंप्यूटर  सबसे जरूरी सब्जेक्ट बन गया है पहले कोई भी कंप्यूटर में उतना जयदा इंट्रेस्ट नहीं लेता था परन्तु आज के समय में सभी फील्ड में कंप्यूटर का सब्जेक्ट होना सबसे जरुरी हो गया है जब आप 10th पढ़ने के बाद 12th में एडमिशन लेते है तो वह आपको कंप्यूटर साइंस का अलग से सब्जेक्ट मिलता है

अगर आप कंप्यूटर में अपना करियर को बनना चाहते है तो बहुत सारे ऐसे कोर्स है जो 12th के बाद से अपना एडमिशन ले सकते है जैसे BCA अगर आप BCA का कोर्स कर लेते है तो आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर बन जाते है और आपको पता ही है कंप्यूटर में सबसे ज्यादा सेल्लरी सॉफ्टवेयर इंजीनियर का होता है इसके साथ अगर आप जहा भी जाते है चाहे वो कोई सरकारी दफ्तर हो यह कोई प्राइवेट ऑफिस हर जगह आपको कंप्यूटर देखने को मिल जायेगा।

आने वाले समय में कंप्यूटर जॉब का स्कोप और भी ज्यादा है जिससे लोग कंप्यूटर में ज्यादा से ज्यादा जनकारी लेंगे। बहुत सारे ऐसे भी लोग जिन्हे अभी कंप्यूटर के बारे में जानकारी नहीं है और आने वाले पीढ़ी को भी कंप्यूटर के बारे में जानना जरुरी है इसलिए मैं आज के इस आर्टिकल में कंप्यूटर के महत्व और कंप्यूटर के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में शेयर किया है जिससे What is Compute In Hindi के बारे में जानकारी मिल जाएगी.

 

 

कंप्यूटर के फायदे और नुकसान

जैसे कंप्यूटर हमारे दैनिक जीवन के लिए सबसे जरूरी मशीन बन गया है जो हमारे सभी कामो में हेल्प करता है परन्तु कंप्यूटर के कुछ फायदे है तो उसके साथ ही कुछ नुकसान भी है जिसका सामना हम करते आ रहे है और आने वाले समय में इसका सामना करना भी पड़ेगा।

रोजगार

कंप्यूटर के हो जाने से रोजगार के कई सारे रास्ते खुलते है सबसे पहला तो अगर कोई कंपनी कंप्यूटर का इस्तेमाल कराती है तब कंपनी को ऐसे लोगो की भी जरुरत पड़ती है जो उस कंप्यूटर को ऑपरेट और ख़राब होने पर उसे फिक्स भी कर सके। आज कल जितने ज्यादा कंप्यूटर का इस्तेमाल हो रहा है उतने ही ज्यादा कंप्यूटर इंजीनियर, सॉफ्टवेयर इंजीनियर और कंप्यूटर ऑपरेटर्स की भी आवशयकता पड़ रही है और भारत में बहुत सारे ऐसे बड़ी IT कम्पनियाँ है जो हर साल लाखो जॉब को प्रोवाइड कराती है चाहें वो गोवेर्मेंट कंपनी हो या प्राइवेट कंपनी

इसलिए आज कल कंप्यूटर के बारे में बेसिक भी जानकारी रखना बहुत जरुरी हो गया है अगर आप कंप्यूटर के बेसिक में कम्पलीट जानकारी लेना चाहते है तो आप कुछ बेसिक कोर्स को एनरोल कर सकते है जैसे BCC, CCC, इत्यादि।

 

बेरोजगारी

सबसे बड़ा नुकसान है बेरोजगारी जैसे कंप्यूटर का इस्तेमाल बढ़ते जा रहा है वैसे वैसे बेरोजगारी भी बढती जा रही है क्योकि कंप्यूटर एक मल्टीटॉस्किन डिवाइस है यानि कंप्यूटर अकेले कई सारे टास्क को एक साथ कर सकता है पहले कंपनी हो या कही और काम को करने के लिए जितने ज्यादा काम होता था उतना ही ज्यादा लोगो की आवश्यक्ता पड़ती थे लेकिन आज के समय में कंप्यूटर के हो जाने से लोगो की आवशयकता कम पड़ती है क्योकि कंप्यूटर अकेले कई सारे लोगो का काम को कर सकता है

कंप्यूटर के हो जाने से बेरोजगारी का असर उन लोगों पर ज्यादा पद रहा है जो थोड़ा कम शिक्षित है जिन्हे कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी के बारे में जानकारी जानकारी नहीं है।

 

समय की बचत

टाइम सबके लिए सबसे जरूरी है हर कोई अपने टाइम को सेव करना चाहता है और इसमें कंप्यूटर आपको काफी ज्यादा मदद भी कर रहा है, अगर हमें ट्रैन के टिकट को बुक करना है तो उसके लिए हमें लम्बी लम्बी लाइन में लगने की कोई भी जरुरत नहीं है हम अपने घर बैठे ही कंप्यूटर और मोबाइल के माध्यम से टिकट बुक कर सकते है, जब आप किसी भी बैंक में पैसे को जमा करने जाते है तो वहाँ भी कंप्यूटर की मदद से आपका पैसा जल्द से जल्द जमा हो जाता है और इसके लिए आपको किसी भी प्रकार का कागज़ी करवाई नहीं करना पड़ता है अगर आपको अपने अकाउंट से पैसे निकलने है तो ATM के हेल्प से कही भी कभी पैसे निकाल सकते है इसके पीछे सबसे बड़ा योगदान कंप्यूटर का होता है।

 

साइबर अपराध

कंप्यूटर के होने से हम अपना सभी के सभी इनफार्मेशन अपने कंप्यूटर में स्टोर रखते है या ज्यादा तर अपना काम ऑनलाइन करते है जब कोई गलत आपके डिजिटल इनफार्मेशन को बिना आपके परमिशन से छेड़ छाड़ करता है तो उसे साइबर क्राइम कहा जाता है और कंप्यूटर के भाषा में इसे हैकिंग भी कहा जाता है और जो इस अपराध को करता है उसे हैकर कहा जाता है कंप्यूटर के होने से ज्यादातर काम कंप्यूटर से होते है लोग ऑनलाइन शॉपिंग से लेकर ऑनलाइन पेमेंट तक कंप्यूटर के हेल्प से कर रहे है पर जो हैकर होते है वो आपके कंप्यूटर को हैक करा लेते है यानि अपने कण्ट्रोल में कर लेते है और आपके इनफार्मेशन को चुरा लेते है जिससे आपको काफी ज्यादा नुकसान का सामना झेलना पड़ सकता है।

समय बर्बाद होना

तो कंप्यूटर हमारे समय के सेव तो करता ही है परन्तु इसके साथ ही इसके आज जाने उतना ही ज्यादा समय की बर्बादी भी हो रहा है जैसे कंप्यूटर के होने से लोग आलसी भी बनाते जा रहे है और आज कल के बचे जो पढाई से ज्यादा कंप्यूटर में ध्यान देते है और आज कल बहुत सारे गेम भी आ चुके है जो लोगो के समय को काफी ज्यादा बर्बाद करते है जैसे PUBG जो की इंडिय में बहुत ज्यादा खेला जाता है और इससे कभी ज्यादा समय बेकार में चला जाता है।

 

 

आज हमने सीखा

तो आज हमने कंप्यूटर के बारे में पूरी जानकारी ली है अगर हमें कंप्यूटर के बारे में जानकारी लेना है तो सबसे पहले कंप्यूटर के बेसिक को जानना बहुत ही ज्यादा जरुरी है अगर हम कंप्यूटर के बेसिक के बारे में जानकारी रखते है तो इससे हमें आगे जानने में काफी ज्यादा हेल्प मिलेगी। इसलिए हमने What is Computer in Hindi और History of Computer in Hindi के बारे में जाना इसके साथ ही हमने Computer Befits in Hindi के बारे में जाना।

कंप्यूटर हमारे लिए बरदान की तरह है अगर कंप्यूटर का इस्तेमाल हम सही तरीको से करते है तो इससे हमें कोई प्रकार के लाभ मिल सकता है बस हमें कंप्यूटर का सही इस्तेमाल आना सबसे जरुरी है आशा करता हु कंप्यूटर क्या है इसके बारे में समझ आ गया होगा। अगर आपको कोई पॉइंट जो समझ में नहीं आया हो या मिसिंग हो तो निचे कमेंट जरूर करे. अगर आपको आज का आर्टिकल अच्छा लगा है शेयर जरूर करे धन्यवाद

1 Comment
  1. […] करते है तो इस इस्तिथि में हमारे Mobile Computer RAM का इस्तेमाल सबसे ज्यादा होता है […]

Leave a reply

error: Content is protected !!
MYTECHINFO
Logo